डॉ बीएचवीएस नारायण मूर्ति
डॉ बीएचवीएस नारायण मूर्ति
महानिदेशक, मिसाइल एवं सामरिक प्रणाली (एमएसएस)

डॉ. बीएचवीएस नारायण मूर्ति, प्रसिद्ध वैज्ञानिक और निदेशक, आरसीआई को डीजी, एमएसएस, डीआरडीओ, हैदराबाद के रूप में नियुक्त किया गया है।

डॉ. बीएचवीएस नारायण मूर्ति एक प्रसिद्ध रक्षा वैज्ञानिक हैं और भारत में रक्षा और एयरोस्पेस अनुप्रयोगों के लिए उन्नत एवियोनिक्स प्रौद्योगिकियों के स्वदेशी डिजाइन और विकास में अपने अनुसंधान एवं विकास के लिए प्रसिद्ध हैं। निदेशक और कार्यक्रम निदेशक के रूप में, इन्होंने रिसर्च सेंटर ईमारत (आरसीआई) का नेतृत्व किया जो डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम मिसाइल कॉम्प्लेक्स की एक एवियोनिक्स प्रयोगशाला है तथा एवियोनिक्स के डिजाइन, विकास और वितरण और मिसाइलों और निर्देशित हथियार प्रणालियों की विस्तृत श्रृंखला का संचालन करती है।

इन्होंने आरईसी, वारंगल से इलेक्ट्रॉनिक्स और संचार इंजीनियरिंग में स्नातक की उपाधि प्राप्त की तथा जेएनटीयू, हैदराबाद से एमटेक पूरा किया और आईआईआईटी, हैदराबाद से कंप्यूटर विज्ञान में पीएचडी प्राप्त की है। वह वर्ष 1986 में डीआरडीओ में नियुक्त हुए थे।

डॉ. मूर्ति मिसाइल सिस्टम और अन्य रक्षा अनुप्रयोगों के लिए एडवांस्ड ऑनबोर्ड कंप्यूटर (ओबीसी) प्रौद्योगिकियों के चीफ आर्किटेक्ट हैं। पिछले तीन दशकों में इनका निरंतर योगदान और प्रौद्योगिकी नेतृत्व भारत को एडवांस्ड रीयल टाइम एंबेडेड कम्प्यूटर्स, मिशन कंप्यूटिंग सिस्टम और अन्य एवियोनिक्स टेक्नोलॉजी में आत्मनिर्भर बनाने के लिए परिवर्तनकारी रहा है।

इन्होंने "मिशन शक्ति," भारत का पहला एंटी सैटेलाइट मिसाइल टेस्ट (ए-सैट) और लंबी दूरी की मिसाइल अग्नि 5 के लिए एडवांस एवियोनिक्स के डिजाइन और विकास का नेतृत्व किया तथा भारत को चुनिंदा देशों के संघटन में ऊपर उठाया और स्वदेशी रक्षा क्षमताओं को मजबूत किया।

इन्होंने बीवीआरएएएम अस्त्र, क्यूआरएसएएम, आकाश1एस, आकाश एनजी, एचएसटीडीवी, एनजीएआरएम, लॉन्ग रेंज गाइडेड बम, ब्रह्मोस, एटीजीएम नाग, एचईएलआईएनए, एमपीएटीजीएम, एसएएनटी, बीएमडी, एएनएसपी, अग्नि श्रृंखला के मिसाइल और अन्य निर्देशित हथियार प्रणालियों के लिए एवियोनिक्स सिस्टम के सफल विकास और प्रदर्शन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

प्रोजेक्ट डायरेक्टर के रूप में, इन्होंने स्मार्ट एंटी-एयरफील्ड वेपन (एसएएडब्लू) की अवधारणा, डिजाइन और विकास का नेतृत्व किया और सटीक प्रहार क्षमताओं के साथ लॉन्ग रेंज स्मार्ट गाइडेड प्रणाली की नींव रखी। ऑनबोर्ड कंप्यूटर विशेषज्ञ और प्रौद्योगिकी निदेशक के रूप में, डॉ. मूर्ति ने विभिन्न मिसाइलों, लड़ाकू विमानों और अन्य रणनीतिक अनुप्रयोगों के लिए अवधारणा, योजना, डिजाइन तथा एडवांस रीयल-टाइम कंप्यूटर टेक्नोलॉजी के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया। इन्होंने सिंगल चिप मिशन कंप्यूटर - सिस्टम ऑन चिप और इंटीग्रेटेड एवियोनिक्स मॉड्यूल (आईएएम) के विकास और उत्पादन की रूपरेखा तैयार की, जिससे आगामी लघु स्मार्ट हथियार प्रणालियों के लिए ऑनबोर्ड एवियोनिक्स के लघुकरण में मात्रात्मक उछाल आया। इनके आरएंडडी योगदान का महत्वपूर्ण एयरोस्पेस और मिसाइल प्रौद्योगिकियों के स्वदेशीकरण पर एक बड़ा प्रभाव पड़ा।

इनके विशिष्ट योगदान के लिए, इन्हें कंप्यूटर सोसाइटी ऑफ इंडिया की मानद फैलोशिप से सम्मानित किया गया है तथा इंडियन नेशनल एकेडमी ऑफ इंजीनियरिंग (आईएनएई) और इंडियन सोसाइटी ऑफ सिस्टम्स फॉर साइंस एंड इंजीनियरिंग के फेलो के रूप में चुना गया है। डॉ. मूर्ति को प्रदान किए गए अन्य प्रतिष्ठित पुरस्कारों में एस्ट्रोनॉटिकल सोसाइटी ऑफ इंडिया द्वारा रॉकेट और रिलेटेड टेक्नोलॉजीज अवार्ड, आत्म निर्भरता में उत्कृष्टता के लिए अग्नि अवार्ड, डीआरडीओ साइंटिस्ट ऑफ द ईयर अवार्ड, पाथ ब्रेकिंग रिसर्च/आउटस्टैंडिंग टेक्नोलॉजी डेवलपमेंट अवार्ड और डीआरडीओ परफॉरमेंस एक्सीलेंस अवार्ड शामिल हैं।

Back to Top