निदेशक, अनुसंधान केन्द्र इमारत (RCI)
श्री यू. राजू बाबू
निदेशक, अनुसंधान केन्द्र इमारत (RCI)

उत्कृष्ट वैज्ञानिक और कार्यक्रम निदेशक, ए डी, श्री यू राजा बाबू को अनुसंधान केंद्र इमारत (आरसीआई), डॉ एपीजे अब्दुल कलाम मिसाइल कॉम्प्लेक्स, डीआरडीओ, हैदराबाद के निदेशक के रूप में कार्यभार ग्रहण किया।

श्री राजा बाबू को व्यापक रूप से बैलिस्टिक मिसाइल रक्षा क्षमताओं के डिजाइन, विकास और सफल प्रदर्शन में कार्यक्रम निदेशक, क्षेत्र रक्षा (AD) और प्रौद्योगिकी नेतृत्व के रूप में उनके महत्वपूर्ण योगदान के लिए जाना जाता है। मुख्य वास्तुकारों में से एक के रूप में, उन्होंने बीएमडी प्रौद्योगिकियों के आधार पर भारत की अंतरिक्ष रक्षा क्षमताओं का प्रदर्शन करते हुए भारत के पहले एंटी-सैटेलाइट मिसाइल टेस्ट (ASAT) "मिशन शक्ति" का नेतृत्व किया था।

उन्होंने भारतीय वायु सेना के साथ अपना करियर शुरू किया और बाद में 1995 में वह डीआरडीओ में शामिल हो गए और उन्नत रेंज की पृथ्वी मिसाइल प्रणाली के विकास और प्रवर्तन में निर्णायक भूमिका निभाई। फिलहाल, निदेशक और कार्यक्रम निदेशक के रूप में, वह अनुसंधान केंद्र इमारत (RCI) का नेतृत्व कर रहे हैं, जो डॉ एपीजे अब्दुल कलाम मिसाइल कॉम्प्लेक्स की एक वैमानिकी (एवियोनिक्स) प्रयोगशाला है और भारत में रक्षा और एयरोस्पेस अनुप्रयोगों के लिए एवियोनिक्स और मिसाइलों और निर्देशित हथियार प्रणालियों की विस्तृत श्रृंखला के डिजाइन, विकास और वितरण का संचालन करती है। अनुसंधान एवं विकास में उनका निरंतर योगदान महत्वपूर्ण मिसाइल एवं एयरोस्पेस प्रौद्योगिकियों के स्वदेशीकरण के लिए परिवर्तनकारी रहा है और इसने देश में रक्षा उद्योग पारिस्थितिकी तंत्र को मजबूत किया है।

एक टीम लीडर के रूप में उन्हें मिशन शक्ति के प्रदर्शन का सफलतापूर्वक नेतृत्व करने के लिए अग्रणी अनुसंधान एवं उत्कृष्ट प्रौद्योगिकी विकास पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। श्री राजा बाबू को प्रदान किए गए अन्य प्रतिष्ठित पुरस्कारों में आत्मनिर्भरता में उत्कृष्टता के लिए अग्नि पुरस्कार, डीआरडीओ साइंटिस्ट ऑफ द ईयर और PMA प्रोजेक्ट लीडर अवार्ड शामिल हैं। वह इंस्टीट्यूशन ऑफ इंजीनियर्स के फेलो और कई पेशेवर समुदायों के आजीवन सदस्य हैं।

Back to Top