संपर्क
DRDO

Conference/Seminar Organized

अंतरिक्ष प्रौद्योगिकियो, अनुकूलन, और रखरखाव में हाल के उन्नयनों पर राष्ट्रीय संगोष्ठी (एयरोटेक-2008)
 

14 से 15 नवंबर 2008, अंतरिक्ष प्रौद्योगिकियो, अनुकूलन और रखरखाव (एयरोटेक -2008) में हाल के उन्नयनों (विकास) पर दो दिनों की राष्ट्रीय संगोष्ठी आयोजित की गई। पूर्व राष्ट्रपति डॉ. ए पी जे अब्दुल कलाम इस अवसर पर मुख्य अतिथि थे। इस संगोष्ठी को भारत की वैमानिकी सोसाइटी के चंडीगढ़ प्रभाग (चैप्टर) द्वारा आयोजित किया गया था। डॉ. सतीश कुमार, निदेशक टीबीआरएल भारत की वैमानिकी सोसाइटी के चंडीगढ़ प्रभाग (चैप्टर) के अध्यक्ष हैं। शैक्षणिक संस्थानों और उद्योग के लगभग 300 वैज्ञानिकों, इंजीनियरों, सेवा अधिकारियों और प्रतिनिधियों ने इसमें भाग लिया। डॉ. कलाम ने अपने उद्घाटन भाषण में अंतरिक्ष से संबंधित प्रौद्योगिकियों के हाल के विकास और इस क्षेत्र में भारतीय सार्वजनिक और निजी उद्योगों के योगदान पर प्रकाश डाला। अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी में होती तेजी से वृद्धि ने विशाल व्यावसायिक अवसरों के नए क्षेत्रों को खोला दिया है। इस संगोष्ठी ने अंतरिक्ष शोध में शामिल लोगों के लिए नवीनतम प्रौद्योगिकियों पर अपने ज्ञान साझा करने और देश में हवाई उद्योग के भविष्य में विस्तार पर ध्यान में रखते हुए रणनीतियों की योजना बनाने लिए एक खुला मंच प्रदान किया है।

 

 

 

 

एयरोटेक 2008 का उद्घाटन करते हुए भारत के पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम

   

एयरोटेक 2008 की कार्यवाही के दौरान भारत के के पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम के साथ डा. सतीश कुमार, निदेशक टीबीआरएल चंडीगढ़।

 
 
विस्फोटक प्रौद्योगिकी में रुझान पर राष्ट्रीय संगोष्ठी और प्रदर्शनी (टेक्स्ट-2008)
 

भारत की उच्च ऊर्जा सामग्री सोसायटी (एचईएमएसआई) के चंडीगढ़-दिल्ली प्रभाग द्वारा टीबीआरएल रेंज, रामगढ़ में 5 से 6 नवंबर 2008 तक विस्फोटक प्रौद्योगिकी में रुझान (टेक्स्ट -2008) पर- दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी और प्रदर्शनी आयोजित की गई थी। डीआरडीओ, डीएई, इसरो, सीएसआईआर, आईआईटी, आईआईएससी, विश्वविद्यालयों और उद्योगों से 250 से अधिक प्रतिनिधियों ने इस संगोष्ठी में भाग लिया। टीबीआरएल के निदेशक, डॉ. सतीश कुमार ने कहा कि इस संगोष्ठी का आयोजन डीआरडीओ के स्वर्ण जयंती समारोह के एक भाग के रूप में भारत की उच्च ऊर्जा सामग्री सोसाइटी (एचईएमएसआई), के चंडीगढ़-दिल्ली प्रभाग द्वारा अपने अस्तित्व में आने के पहले ही वर्ष में किया जा रहा है।

 
 

 

डॉ. ए शिवाथनु पिल्लई, विशिष्ट वैज्ञानिक और सीसी आर एंड डी (एनएस एंड एसी) द्वारा संगोष्ठी का उद्घाटन

 

स्वागत भाषण देते हुए डॉ. सतीश कुमार,  निदेशक टीबीआरएल

 

मुख्य अतिथि डॉ. ए शिवाथनु पिल्लई, विशिष्ट वैज्ञानिक और सीसी आर एंड डी (एनएस एएसई) एवं सीईओ और एमडी ब्रह्मोस एयरोस्पेस लिमिटेड ने अपने उद्घाटन भाषण में सामान्य रूप से डीआरडीओ में और विशेष रूप से आयुध विभाग की प्रयोगशालाओं में किए जा रहे कार्य की एक संक्षिप्त दृश्य प्रस्तुत किया।
डॉ. एस बनर्जी, निदेशक बीएआरसी, डॉ. बी.गंधे, निदेशक, आयुध निदेशालय, श्री. सुरेंद्र कुमार, निदेशक एआरडीई, श्री जे.सी. कपूर, निदेशक सीएफईईएस, डॉ.एस.के.वासुदेव, निदेशक एसपीआईसी, डॉ. शुभानंद राव, निदेशक एचईएमआरएल, डॉ. हरिद्वार सिंह, एमेरिटस वैज्ञानिक डीआरडीओ और डॉ. मनोज दत्ता, निदेशक पीईसी इस अवसर पर उपस्थित महत्वपूर्ण व्यक्तियों में से थे, जिन्होंने अपनी उपस्थिति से इस अवसर को महिमामंडित किया।

 
• बम (विस्फोटक) प्रौद्योगिकी पर संगोष्ठी
• उच्च गति इंस्ट्रुमेंटेशन पर संगोष्ठी
• विस्फोटक निर्माण और आवरण पर कार्यशाला
• विस्फोट (डिटोनिक्स) और सदमे की लहरों पर कार्यशाला
• लेजर पर कार्यशाला

उपरोक्त के अलावा,  सीएआईआर ने भी भारतीय विज्ञान संस्थान (आईआईएससी), बंगलौर और इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी मद्रास (आईआईटीएम), चेन्नई के साथ सहयोग के एक समझौता ज्ञापन (एमओसी)  के तहत आयोजित किए जा रहे ऊपरोक्त प्रकृति के कार्यक्रमों में सक्रिय रूप से भाग लिया।
 

.
.
.
.
Top