संपर्क
दृष्टि

अंतर्जलीय सेंसरों और निगरानी प्रणालियों के लिए श्रेष्ठता का केंद्र बनना।

ध्येय
नैवल अनुप्रयोगों के लिए सोनार प्रणालियां उत्पादिन करने के लिए विकास करना। अंतर्जलीय निगरानी, महासागर के वातावरण और अंतर्जलीय सामग्री के अध्ययन के लिए तकनीकें विकसित करना।
भारत में नैवल प्रणाली तकनीक का मूल केरल में कोचीन में वर्ष 1952 में एक प्रयोगशाला, इंडियन नैवल फिजिकल लैबोरेटरी (आईएनपीएल) की स्थापना से खोजा जा सकता है। इसने आरंभ में अधिकतर नौसेना सहायता गतिविधियों के लिए क्षेत्रीय प्रयोगशाला के रूप में कार्य किया।
.
.
.
.
Top