संपर्क
DRDO
मुख्य पृष्ठ > एन पी ओ ल> उपलब्धियाँ

उपलब्धियां

एन पी ओ एल हेतु नया बायोगैस संयंत्र

श्री एस अंनंत नारायणन, उत्कृष्ट वैज्ञानिक और निदेशक, नौसेना भौतिक तथा समुद्रविज्ञान प्रयोगशाला (एन पी ओ एल), कोच्चि ने 24 मई 2011 को अमल नामक एक नए बायोगैस संयंत्र का उद्घाटन किया। इस अवसर पर श्री एम जी थिमैय्या, वैज्ञानिक 'ई', संपदा प्रबंधक, ई एम यू, बैंगलूरू उपस्थित थे। अपशिष्ट प्रबंधक संयंत्र को स्थापित करने का उद्देश्य ड्रोमी में रसोई ईंधन के रूप में प्रयोग किये जाने के लिए बायोगैस का उत्पादन करना है। यह संयंत्र 20 किलो ग्राम प्रति दिन की दर से अपशिष्ट पदार्थों का प्रक्रमण कर सकता है और इसकी दैनिक उत्पादन दर 10 घन मीटर बायोगैस की है। यह संयंत्र बायोटेक इंडिया, तिरुवन्नतपुरम की सहायता से स्थापित किया गया है। अपशिष्ट पदार्थों को बायोगैस में बदलने के लिए प्रयुक्त प्रौद्योगिकी सूक्ष्म जीवाणुओं को प्रयोग में लाने की प्रौद्योगिकी है। रसोई ईंधन के रूप में बायोगैस के प्रयोग से अपारंपरिक ऊर्जा स्रोतों का प्रयोग किए जाने के साथ-साथ कारगर कचरा प्रबंधन भी किया जाता है। यहाँ के तकनीकी परिसर में 'विमल' नामक एक इसी प्रकार का बायोगैस संयंत्र भी कार्य कर रहा है।

एडवांस्ड पैनोरेमिक सोनार हल माउंटिड (एपीएसओएच)

एक जहाज बोर्न सोनार प्रणाली जो सक्रिय रेंजिंगपैसिव लिसनिंगलक्ष्यों और वर्गीकरण की स्वतः ट्रैकिंग करने के लिए डिजाइन और विकसित की गई थी। अस्थिर गरहाई सोनार (एचयूएमवीएडी) के लिए अतिरिक्त इलैक्ट्रॉनिक्स और ट्रांस्डूसर के साथ इस सोनार का रूपांतर ऐसे समरूपणों की जरूरत वाले प्लैटफॉर्मों में विकसित और फैलाए गए। यह भारत इलैक्ट्रॉनिक्सबंगलौर द्वारा वर्ष 1983 से क्रमिक उत्पादन में है।

एपीएसओएच उत्प्रेरक सोनारएपीएसओएच के प्रभावी प्रयोग में नैवल कार्मिकों की प्रशिक्षण के लिए कोचि में एएसडब्ल्यू स्कूल में विकसित और स्थापित किया गया। प्लैटफॉर्मलक्ष्यों और वातावरण के पैरामीटरों की पुष्टि निर्देशक कंसोल से की जाती है। देसी रूप से विकसित माइक्रोकंप्यूटर एपीएसओएच के डिस्प्ले कंसोलों की रेप्लिका पर लक्ष्यों और वातावरण की वास्तविक उत्प्रेरणा प्रदान करते हैं।

एचयूएमएसए

एचयूएमएसए नब्बे के दशक में भारतीय नौसेना के लिए डिजाइन किया गया स्टेटऑफदीआर्ट हल माउंटिड पैनोरैमिक सोनार का वर्धित संस्करण रहा है। सतही और गहरे जल संचालनों दोनों के लिए आदर्श मध्यम रेंज के सक्रिय और पैसिव दोहरे बैंड सोनरों ने एक दशक से अधिक समय के लिए उच्च रूप से अस्थिर तीव्र जल में भी अपनी प्रभाविकता साबित की है। एचयूएमएसए के आधुनिक सिग्नल प्रोसेसिंग तकनीकें इसके श्रेष्ठ निष्पादन के लिए जिम्मेदार हैं। सोनर अल्प और दीर्घ रेंज की निगरानी के लिए बहु ट्रांसमिशन मोड प्रयोग करते हैं। यह बहु शिप संचालन के मामले में हस्तक्षेप को न्यूनतम करने के लिए चयनित क्षेत्रीय प्रकाश प्रदान करता है। सोनर किसी भी फ्रीक्वेंसी पर संचालन के लिए फैक्टरीट्यून किया जा सकता है। इसे दोहरे और एकल संचालक मोड के लिए समरूपित किया जा सकता है और इसलिए विभिन्न टनभार के जहाजों में फिट किया जा सकता है। एक बिल्टइन सिग्नल उत्प्रेरक समुद्र में जाने से पहले निष्पादन मूल्यांकन समर्थ बनाता है और संचालक प्रशिक्षण और आत्मविश्वास निर्माण भी प्रदान करता है। सोनर विशिष्ट जरूरतें पूरी करने के लिए सिलेंडर आकार के ट्रांस्डूसरों की व्यापक रेंज के साथ आपूरित किया जा सकता है।

पचेंद्रीय

पचेंद्रीय पहली देसी रूप से विकसित एकीकृत पनडुब्बी सोनर और कुशल अग्नि नियंत्रण प्रणाली है जिसे पनडुब्बी के फिटमेंट फॉक्सट्रॉट श्रेणी के लिए डिजाइन किया गया है। इस स्टेट-ऑफ-दी-आर्ट प्रणाली में पैसिव निगरानी सोनर, पैसिव रेंजिंग सोनर, रोधक सोनर और अंतर्जलीय संचार

प्रणाली शामिल हैं। एकल या दोहरे मोड में संचालित, सोनर 13 डिस्प्ले फॉर्मेटों में चार रंगीन मॉनीटरों पर अपनी महत्वपूर्ण जानकारी प्रस्तुत करती है। एर्गोनॉमीकल रूप से डिजाइन की गई प्रणाली स्वचालित रूप से छः लक्ष्यों तक एक साथ ट्रैक कर सकती है।

सोनर शक्तिशाली कुशल अग्नि नियंत्रण प्रणाली से जुड़ी हुई है जिसका पेरिस्कोप, रडार और हथियार फैलाने के नियंत्रक से संपर्क हैं। इस प्रणाली के साथ उपलब्ध शक्तिशाली उपकरण ऐरे में प्राप्त किए गए उत्प्रेरित करने में सक्षम है और प्रशिक्षण उद्देश्यों के लिए प्रयोग किया जा सकता है। प्रणाली में, प्रणाली के कुल स्वास्थ्य की जांच के लिए ऑनलाइन खराबी खोजने और ऑफ-लाइन जांच सुविधा है।

मिहिर

मिहिर, हैलिकॉप्टर सोनर प्रणाली, जिसमें डंकिंग सोनर और चार चैनल वाला सोनोबोए प्रोसेसर शामिल है। यह सोनर प्रणाली एएलएच के लिए डिजाइन किया गया जहां वजन, स्थान और ऊर्जा अभिमूल्य पर हैं। प्रणाली में सोनर डोम हाउसिंग, ध्वनि और वातावरणीय सेंसर, विंच और रखरखाव प्रणाली, इलैक्ट्रो-मैकेनिकल केबल, सिग्नल कंडीशनर और प्रोसेसर,सोनरडिस्प्लेऔरवीएचएफरिसीवरऔरएंटीनेशामिलहैं।

 

अंतर्जलीय टेलिफोन


टेलिफोन (यूडब्ल्यूटी) एक मध्यम ऊर्जा ठोस प्रणाली है, जो पनडुब्बियों के बीच या सतही जहाजों और जल को एक ध्वनिक माध्यम के रूप में प्रयोग करने वाली पनडुब्बियों के बीच स्पीच, मोर्स कोड, डिजीटल डेटा संचार प्रदान करता है। यूडब्ल्यूटी मिलिटरी अंतर्जलीय संचार के लिए एनएटीओ और ईकेएम मानदंडों के अनुरूल है।

संचार के प्राथमिक मोड में यह शामिल है:

  • ध्वनि - सामान्य स्पीच संचार

  • टेलिग्राफ - टेलिग्राफ कुंजियां प्रयोग कर मोर्से कोड संप्रेषित करता है।

द्वितीय मोड में यह शामिल हैं:

    • पिंगर - मुफ्त चलने वाला डिस्ट्रैस सिग्नल आपातकालीन स्थान बीकन के रूप में प्रयोग किया जाता है
    • बाहरी - टेप रिकॉर्डर के द्वारा कोई भी बाहरी ऑडियो सिग्नल संप्रेषित/प्राप्त करता है
    • डिजीटल - कंप्यूटरों के बीच डेटा अंतरण
    • संदेश - 99 प्री-कोडिड डिजीटल संदेशों तक संप्रेषित/प्राप्त करता है
    • प्रत्युत्तर - रेंज खोजने वाली सुविधा के साथ सामान्य प्राप्ति मोड

यह भारतीय नौसेना में शामिल और उनके द्वारा प्रभावी रूप से प्रयोग किया जा रहा है। इन इकाइयों का उत्पादन मैसर्स केल्ट्रॉन, तिरूवंतनपुरम द्वारा किया जा रहा है।

पीसी आधारित एक्सबीटी


पीसी आधारित एक्सबीटी 30 नोट्स तक रफ्तार वाले जहाजों से महासागर का तापमान डेटा रिकॉर्ड करने के लिए एक आधुनिक प्रणाली है। प्रणाली का सॉफ्टवेयर गहराई के फंक्शन के रूप में वास्तविक समय में एक्सबीटी जांच से ट्रांस्मिट होने वाला महासागर तापमान डेटा प्राप्त, प्रदर्शित और संग्रहित करता है। प्रणाली द्वारा प्रदत्त तापमान डेटा मानक एसआरपी (साउंड रे पाथ) प्रोग्राम के साथ समर्थित फॉर्मेट में होता है। इसका उत्पादन ईसीआईएल, हैदराबाद द्वारा किया जा रहा है।

टैडपोल सोनोबोए

एनपीओएल द्वारा विकसित एनएटीओ समर्थित टैडपोल सोनोबोए समुद्री सतह में निर्विध्न उतरने के लिए पैराशूट द्वारा समर्थित उच्च ऊंचाई वाला विस्तरण योग्य सोनर है। टैडमोप वर्ष 2000 से परिचालन के लिए भारतीय नौसेना में शामिल किया गया। इसमें दो चयन योग्य संचालन गहराइयों और 8 घंटों तक तीन विभिन्न ऑपरेटिंग अवधियों का चयन है। इस इकाई को ऑपरेशन के सेट समय के बाद निष्क्रिय किया जा सकता है। इश उपकरण के लिए उत्पादन एजेंसी मैसर्स टाटा पॉवर कंसलटेंसी लिमिटेड, बंगलौर है।

 

 
.
.
.
.
Top