संपर्क

कार्य के क्षेत्र

  • कम्प्यूटर-सहायित अभिकल्प तथा सूक्ष्मतरंग नलियों का अनुकरण।
  • ईडब्ल्यू, संचार, रेडार तथा अन्य अनुप्रयोगों के लिए सूक्ष्मतरंग नलियों का अभिकल्प और विकास।
  • इलेक्ट्रॉनिक शक्ति समन्वयक, सूक्ष्मतरंग शक्ति प्रतिरूपकों तथा प्रेषित्रों का अभिकल्प और विकास।
  • नई पीढ़ी के उपकरण, जैसेकि बहु-किरणपुंज क्लाइस्ट्रॉन, सापेक्षिक मैगनेट्रॉन।
  • उच्च-शक्ति सूक्ष्मतरंग जनन और इसके आईएसएम अनुप्रयोग।
  • सूक्ष्मतरंग नलियों के लिए उच्च-उत्सर्जन घनत्व इलेक्ट्रॉन उत्सर्जक।
  • निर्वात सूक्ष्मइलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के लिए समर्थकारी प्रौ़द्योगिकियां।
.
.
.
.
Top