संपर्क

दृष्टि

रडार तथा संबंधित प्रौद्योगिकियों के डिजाइन तथा विकास हेतु केंद्र के रूप में स्थापित करना।

ध्येय

सेनाओं की आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए रडार प्रणालियों तथा संबंधित प्रौद्योगिकी का विकास करना। आत्म निर्भरता प्राप्त करने के लिए आधारभूत ढांचा, सुविज्ञ आधार और प्रौद्योगिकी संवर्धन करना।


एलआरडीई की उत्पत्ति, रावलपिंडी में 1939 में सृजित वैज्ञानिक भंडार निरीक्षणालय में से हुई जिसका नाम 1946 में बदलकर तकनीकी विकास संस्थापना किया गया तथा इसकी स्थापना देहरादून में की गई। 1958 में, इलैक्ट्रॉनिक कार्यकलापों को निरीक्षण तथा अ.एवं.वि. में बांट दिया गया तब, इलेक्ट्रोनिक्स  एवं रडार विकास स्थापना की स्थापना टीडीई (आईएंडई) से प्राप्त व्यक्तियों और सामग्री के साथ बंगलौर में की गई।
.
.
.
.
Top