संपर्क
मुख्य पृष्ठ > एचईएमआरएल > सिविल क्षेत्रों हेतु प्रौद्योगिकियाँ

असैन्य क्षेत्र के लिए उत्पाद/प्रौद्योगिकियां

वायु पुनर्उत्पादन संरचना (एयर रिजेनेरेटिंग कम्पोजिशन)

यह संरचना एक बंद जगह के भीतर श्वसन योग्य वायु बनाए रखने के लिए उपयोग की जाती है। यह ऑक्सीजन मुक्त करके और साथ साथ कार्बन डाइ ऑक्साईड अवशोषित करके बंद जगह में वायु पुनर्उत्पादित करती है। इसे खानों में बचाव कार्य, अग्निमय/विषैले परिवेशों; विषैली गैस/रासायनिक संयंत्र प्रचालन; पर्वतारोहण अभियानों; विमान के भीतर पूर्ण वायु पुनर्उत्पादन; समुद्रगत अन्वेषण और खनन इत्यादि जैसे सिविल अनुप्रयोगों में उपयोग की जा सकती है।

विस्फोटक खोज किट (ईडीके)

विस्फोटकों की सुरंगों का क्षेत्र में पता लगाने के लिए एक कॉम्पैक्ट, कम लागत वाले और सुविधाजनक विस्फोटक खोज किट को डिज़ाइन किया है और कार्य हेतु उत्कृष्ट बनाया गया है। सरल परीक्षण रेसिपी एक वर्ण प्रतिक्रिया उत्पन्न करती है जिसके आधार पर मिनटों में विस्फोटकों का पता लगाया जा सकता है। इसे सभी आम सैन्य, सिविल और गृह निर्मित विस्फोटक संरचनाओं की पहचान के लिए उपयोग किया जा सकता है। इसे विस्फोटकों का पता लगाने के लिए पुलिस और बीएसएफ द्वारा उपयोग किया जा रहा है। ईडीके का एफआईसीसीआई के माध्यम से एटीएसी के लिए त्वरित प्रौद्योगिकी कार्यक्रम के अंतर्गत, यूएस में एक निजी फर्म द्वारा विपणन किया जा रहा है।

84 मिमी उच्च तापमान वाला दमघोंटू धुंआ (एचटीएसएस) गोला

84 मिमी ज्वलनशील गोला एक बहुप्रयोजनीय गोला है। इसे शहरी तथा साथ ही फील्ड ऑपरेशनल क्षेत्रों में नजदीकी युद्ध हेतु इष्टतम बनाया जाता है और यह हल्की सुरक्षा वाली घेराबंदी, ईंट की दीवारों और लकड़ी की संरचनाओं के विरूद्ध प्रभावी है। गोला लक्ष्य को भेदने के बाद ज्वलनशील और दमघोंटू धुंआ उत्पन्न करता है। ज्वलनशील टुकड़े उच्च तापमान के साथ जलते हैं और ज्वलनशील पदार्थों में आग लगा देते हैं तथा ऐसा धुंआ पैदा करते हैं जिससे मनुष्यों का दम घुट जाता है। इनके संयुक्त प्रभाव से दुश्मन सुरक्षित छिपने के स्थान को छोड़ने के लिए मजबूर हो सकता है और पकड़ा जा सकता है।           

ऑलियोरेसिन आधारित निष्क्रियकर्ता धूम्र ग्रेनेड

पारंपरिक अश्रुकारक एजेंट, 1- क्लोरोएसिटोफिनोन (सीएन) अश्रुगैस का उपयोग दंगा नियंत्रण और उपद्रवी समूह को नियंत्रित करने की स्थितियों में उपयोग किया जाता है। वर्तमान में, डाइबेन्ज (बी,एफ)- 1,4 ऑक्साज़ेपाइन (सीआर) प्रेरित श्वसन मार्ग संवेदी उत्तेजक के रूप में भी उपयोग किया जाता है। ऑलियोरेसिन पर आधारित नवविकसित ग्रेनेड आतंकवादी को निष्क्रिय करने और उन्हें नुकसान पहुंचाए बिना उनको अपनी छिपने की जगह और शिविरों से बाहर निकालने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है ताकि उन्हें पकड़ा जा  सके और पूछताछ की जा सके। चूंकि ग्रेनेड प्राकृतिक रूप से उपलब्ध लाल मिर्च के कम सांद्रण वाले सांद्रित सत पर आधारित है और यह तत्क्षण वातावरण में फैल जाता है और गले एवं श्लेष्मा झिल्ली में तथा त्वचा में जलन पैदा करता है, इस हैंड ग्रेनेड को आतंकवादी ऑपरेशनों से प्रभावी रूप से लड़ने में विधि प्रवर्तन अभिकरणों के लिए एक सक्षम एम्युनिशन समझा
 जाता है।

उन्नत विध्वंस युक्तियां (एडीडी)

विध्वंस युक्तियों का उपयोग विभिन्न इंजीनियरी कार्यों हेतु आक्रामक और रक्षात्मक ऑपरेशनों दोनों में टैक्निकल अपेक्षाओं को पूरा करने के लिए किया जाता है। इन युक्तियों को अनेक प्रकार के लक्ष्यों का विध्वंस करने के लिए उपयोग किया जाता है। सेना की सूची में रखी गई इन विध्वंस युक्तियां की वज़न और परिवहनीयता संबंधी क्षमता की दृष्टि से कुछ सीमाएं हैं। डीआरडीओ (एचईएमआरएल) द्वारा विकसित कम वज़न के साथ उन्नत प्रभाविता वाली एडीडी को सैन्य सेवाओं में शामिल करने की सिफारिश की गई है। एडीडी मौजूदा विध्वंस युक्तियों को प्रतिस्थापित करने के लिए जीएसक्यूआर के सभी उद्देश्यों को पूरा करती है। एडीडी का उत्पादन आयुध कारखानों में स्थापित किया गया है। एडीडी में दो श्रेणियों अर्थात् बल्क युक्तियों और शेप्ड चार्जेस की निम्नलिखित 12 युक्तियां शामिल होती है।

मॉड्यूलर चार्ज (220ग्राम एवं 350ग्राम)           
शीट एक्सप्लोसिव
फ्लेक्सिबल लिनियर शेप्ड चार्ज 4ग्राम/मी, 12ग्राम/मी एवं 25 ग्राम/मी शेप्ड चार्जेस (30मिमी, 60मिमी, 90 मिमी एवं 145 मिमी)

रिजिड कटिंग चार्जेस (85 मिमी एवं 100 मिमी)

सीएमडीएस के लिए आईआर फ्लेयर्स

सीएमडीएस के लिए आईआर फ्लेयर्स एक 2" x 1" x 8" आकार की कार्टरिज है, जो चालू होने पर 3.5से अधिक की अवधि के लिए वांछित वेवबैंड में एक गहन आईआर विकिरण पैदा करती है। आईआर फ्लेयर्स का उपयोग आईआर निर्देशित मिसाइलों (सतह से हवा तथा हवा से हवा दोनों मार करने वाले) से लड़ाकू और परिवहन विमानों को बचाने के लिए किया जाता है। एक बार शामिल कर लिए जाने के बाद, सीएमडीएस हेतु आईआर फ्लेयर को भारतीय वायु सेना के विभिन्न विमानों द्वारा शत्रु परिवेश में आत्म-रक्षा हेतु उपयोग किया जाएगा। स्वदेशी 2" x 1" x 8" आई आर फ्लेयर्स के लिए उपयोगकर्ता द्वारा जांचों को फ्लेयर्स के परीक्षण और मूल्यांकन हेतु वायुसेना मुख्यालय के निर्देशानुसार सफलतापूर्वक पूरा किया गया है। स्वदेशी फ्लेयर्स का निष्पादन अत्यंत संतोषजनक पाया गया।

सीएमडीएस हेतु आईआर फ्लेयर का अनुप्रस्थ काट

 

अश्रुगैस ग्रेनेड एमके-II

इस ग्रेनेड में 1-क्लोरोएसिटोफिनोन (सीएन) पर आधारित आंसू पैदा करने वाला मिश्रण होता है। अश्रुकारक एजेन्ट अश्रु ग्रंथियों को उत्तेजित करता है जिससे आंसू पैदा होता है और दृष्टि धुंधली हो जाती है तथा त्वचा और गले में हल्की जलन होती है। यह  अश्रुकारक (लैक्रीमैटरी) प्रभाव कहलाता है। अश्रुगैस का उपयोग दंगा नियंत्रण और उपद्रवी भीड़ की स्थितियों को नियंत्रित करने  के लिए किया जाता है। एचईएमआरएल ने एक सीएन आधारित हैंड ग्रेनेड विकसित किया है जो उपद्रवी भीड़ की हिंसा को नियंत्रित करने और छिपे हुए कानून भंजकों को निकालने के लिए 30 की अवधि तक कार्य करने में सक्षम है।

120 एमएम एमबीटी अर्जुन और 125 एमएम टी-72 टैंक गन एम्युनिशन (एमके-I सीसीसी प्रौद्योगिकी) जिलेटिनयुक्त ज्वलनशील कार्टरिज केस (सीसीसी)

पारंपरिक एम्युनिशन में पीतल के कार्टरिज केस का उपयोग किया जाता है। पीतल के कार्टरिज केस (बीसीसी) को विश्वभर में टैंक गन एम्युनिशन में जिलेटिनयुक्त ज्वलनशील कार्टरिज केस (सीसीसी) से प्रतिस्थापित कर दिया गया है क्योंकि वे उच्च चैम्बर दाब (450 एमपीए) पर और उच्च फायरिंग दरों के लिए उपयोगी होते हैं। एचईएमआरएल ने नाइट्रोसेलुलोज़ (एनसी), नाइट्रोगुआनिडाइन (एनजीयू) और सेलुलोसिक फाइबर वाली विलायक (सॉल्वेन्ट) तकनीक तथा मोल्डिंग तकनीक द्वारा स्थापित विनिर्माण द्वारा जिलेटिनयुक्त सीसीसी विकसित किया है। इस प्रौद्योगिकी में फिलर के रूप में एनजीयू के साथ सेलुलोज़ और एनसी फाइबर के मैट्रिक्स की रचना शामिल है। जिलेटिनयुक्त करने के बाद परिवेशीय स्तर पर उच्च दाब के अधीन कॉम्पैक्शन द्वारा ज्वलनशील अवयवों की यांत्रिक सुदृढ़ता प्राप्त की जाती है। निजी फर्म में इसका उत्पादन 1993 में प्रारंभ किया गया है।

120 एमएम एमबीटी अर्जुन और 125 एमएम टी-72 टैंक और आर्टिलेरी गन हेतु 155 एमएम बीएमसीएस के लिए रेसिन आधारित सीसीसी (एमके-IIसीसीसी प्रौद्योगिकी)

ज्वलनशील कार्टरिज केस प्रौद्योगिकी के कोटिउन्नयन के लिए, एचईएमआरएल ने जिलेटिनयुक्त सीसीसी की तुलना में अधिक दृढ़ता रखने वाला एक रेसिन आधारित सीसीसी विकसित किया है जो नाइट्रोसेलुलोज़ (एनसी)- सेलुलोज़- पोलिविनाइल एसिटेट (पीवीएसी) रेसिन प्रणाली पर आधारित है। रेसिन आधारित सीसीसी अवयव भी फेल्ट मोल्डिंग तकनीक द्वारा बनाए जाते हैं और मैट्रिक्स की यांत्रिक दृढ़ता गरम कॉम्पैक्शन द्वारा प्राप्त की जाती है। ये रेसिन आधारित सीसीसी अधिक तन्य दृढ़ता (टीएस) रखते हैं और विमीय तौर पर स्थायी होते हैं क्योंकि प्रसंस्करण विलायकहीन होता है।
एमबीटी अर्जुन हेतु  120 एमएम एफएसएपीडीएस एवं एचईएसएच एम्युनिशन, टी-72 टैंक हेतु 125 एमएम एफएसएपीडीएस एम्युनिशन और आर्टिलेरी गन हेतु 155 एमएम बाई-मॉड्युलर चार्ज सिस्टम को प्रारंभ में एचईएमआरएल में प्रायोगिक संयंत्र स्तर पर स्थापित किया गया था और बाद में 2005 में इसे निजी फर्मों में स्थापित किया गया।

प्रयोगशाला द्वारा विकसित अन्य उत्पाद

  • उच्च घनत्व वाले उच्च वीओडी विस्फोटक
  • असंवेदी विस्फोटक
  • उच्च ऊर्जा बाइन्डर्स और प्लास्टिसाइजर्स
  • बैलिस्टिक मोडिफायर्स
  • एमार्फस बोरोन पाउडर
  • सेफ इनिशियेटरी (बेसिक लेड एज़ाइड)
  • स्मोक मार्कर
  • बंद पोत (क्लोज़्ड वेसल) रिकार्डर और रॉकेट रिकार्डर

ठोस रॉकेट प्रोपेलैन्ट्स:

कास्ट डबल बेस प्रोपेलैन्ट्स (सीडीबी) प्रोपेलैन्ट्स

यह प्रौद्योगिकी ज्वलन दरों, दाब सूचकांक मानों और बहुत कम तापमान संवेदनों के व्यापक रेंज वाले विभिन्न मिश्रणों से बनाया गया है। जटिल आकारों के प्रोपेलैन्ट चार्जों तथा विभिन्न व्यासों के ठोस सिलिंडरों को ढालने के लिए सुविधाएं उपलब्ध हैं।

एक्सट्रुडेड डबल बेस प्रोपेलैन्ट्स

ज्वलन दरों और दाब सूचकांक मानों के व्यापक रेंज वाले विभिन्न मिश्रणों से बनाया गया है और विभिन्न अनुप्रयोगों हेतु उपयोग किया जा रहा है।

सम्मिश्र प्रोपेलैन्ट्स

      हाइड्रोक्सी-टर्मिनेटेड पोलिब्यूटाडाइन पर आधारित एक अत्याधुनिक सम्मिश्र प्रोपेलैन्ट प्रौद्योगिकी व्यापक रेंज की ज्वलन दरों के साथ विकसित की गई है। कार्टरिज़ लोडेड प्रोपेलैन्ट्स और केस बॉन्डेड मोटरों हेतु प्रसंस्करण सुविधाएं स्थापित की गई हैं।

कम्पोज़िट मोडिफाइड डबल बेस प्रोपेलैन्ट्स

नाइट्रोसेलुलोज़ और नाइट्रोग्लिसेरीन के डबल बेस प्रोपेलैन्ट मैट्रिक्स में ठोस ऑक्सिडाइजरों और धात्विक ईंधन का उपयोग करने वाली प्रौद्योगिकी स्थापित की गई है। व्यापक ज्वलन दरों वाले विभिन्न किस्म के मिश्रण विकसित किए गए हैं। क्रॉस-लिंक्ड कम्पोज़िट मोडिफाइड डबल बेस प्रोपेलैन्ट (सीएमडीबी) को ढालने की प्रक्रिया को पेटेंट कराया गया है।

ईंधन समृद्ध प्रोपेलैन्ट्स

संपीड़न और ढलाई दोनों तकनीकों द्वारा व्यापक ज्वलन दरों वाले ईंधन समृद्ध प्रोपेलैन्ट्स के प्रसंस्करण के लिए प्रौद्योगिकी स्थापित की गई है।

नाइट्रामाइन आधारित उन्नत प्रोपेलैन्ट्स

इस वर्ग के प्रोपेलैन्ट के विकास के लिए, जो उच्च ऊर्जा और कम धूम्र उत्सर्जन की अत्यधिक वांछनीय विशेषताएं रखते हैं, स्वदेशी प्रौद्योगिकी स्थापित की गई है।

अवरोध प्रौद्योगिकी

वांछित ज्वलन विशेषताओं को प्राप्त करने के लिए प्रोपेलैन्ट्स के जलने को अवरूद्ध करने के लिए एक पोलिएस्टर आधारित मिश्रण विकसित किया गया है। 180से. तक की ज्वलन अवधि प्राप्त की गई है।

रणनीतिक मिसाइल हेतु प्रसंस्करण प्रौद्योगिकियां

एचईएमआरएल ने अग्नि, एडी, एएनएस, इत्यादि जैसे विभिन्न रणनीतिक कार्यक्रमों हेतु बड़े बूस्टरों और गैस जेनेरेटरों के लिए बड़े आकार के केस बान्डेड रॉकेट मोटर प्रोपेलैन्ट प्रसंस्करण से संबंधित विभिन्न प्रौद्योगिकियां विकसित की हैं। विभिन्न क्षमता के बूस्टरों को प्रसंस्कृत किया जाता है, सफलतापूर्वक स्थिर/उड़ान परीक्षण किया जाता है और ये अब लगाए जा रहे हैं।

रॉकेट मोटरः

प्रोपेलैन्ट मिश्रणः

  • बूस्टर, सस्टेनर और गैस जेनरेटर अनुप्रयोगों के अनुरूप बहुत कम से बहुत उच्च तक की भिन्न भिन्न ज्वलन दरें।
  • उच्च घनत्व को साकार करने के लिए उच्च ठोस लोडिंग प्रोपेलैन्ट
  • प्रोपेलैन्ट संरचनाः
    • अक्रिय बाइंडर के साथ
      (नाइट्रामाइन के साथ और नाइट्रामाइन के बिना)
    • नाइट्रामाइन्स के साथ एनर्जेटिक बाइंडर
  • -40 से +550से तापमान आवरण के अनुकूल संरचनात्मक विशेषताएं
  • टोटीरहित बूस्टर की सामान्य भार अपेक्षाओं को पूरा करने में सक्षम यांत्रिक विशेषताएं
  • निम्न एल्युमिनियमकृत और एल्युमिनियमकृत प्रोपेलैन्ट संरचनाएं

प्रसंस्करण प्रौद्योगिकियां-

  • धात्विक और मिश्रित ढलाई के लिए हार्डवेयर तैयारी (रगड़ाई और रेखीय परतन)
  • बड़े पैमाने पर मिश्रण बनाना
  • छोटे से बड़े आकार की मोटरों के लिए वैक्युम कास्टिंग प्रौद्योगिकी
  • थिन वेब पायरोजेन इग्नाइटरों के प्रसंस्करण के लिए बॉटम कास्टिंग प्रौद्योगिकी
  • अत्यधिक चिपचिपे प्रोपेलैन्ट घोल के लिए प्रेशर कास्टिंग प्रौद्योगिकी
  • अत्यधिक चिपचिपे प्रोपेलैन्ट की रिबन कास्टिंग
  • प्रेशर क्योरिंग
  • रॉकेट मोटरों की बहु कास्टिंग

प्रोपेलैन्ट प्रसंस्करण सुविधाएं

ठोस रॉकेट प्रोपेलैन्टों के लिए इग्नाइटर्स

एचईएमआरएल डीआरडीओ के पिनाक एमके I और एमके-II , आकाश, निर्भय, एएडी, अग्नि कार्यक्रम इत्यादि जैसे टैक्टिकल और स्ट्रैट्जिक मिसाइल कार्यक्रमों में प्रयोग किए जाने वाले सभी वर्गों के ठोस रॉकेट प्रोपेलैन्टों हेतु इग्निशन प्रणालियों को डिज़ाइन करने और उनका विकास करने की जिम्मेदारी रखता है। एचईएमआरएल द्वारा विकसित इग्निशन प्रणालियां अधिकतर बोरोन आधारित, मैग्नीशियम आधारित और बारूद आधारित संरचनाएं हैं। अधिकतर संरचनाओं के लिए, एचईएमआरएल ने आयुध कारखानों, निजी फर्मों यथा ईईएल नागपुर, पीईएल हैदराबाद इत्यादि जैसी विभिन्न एजेंसियों के साथ प्रौद्योगिकी का हस्तांतरण (टीओटी) पूरा कर लिया है।

गन प्रोपेलैन्टः

सिंगल बेस प्रोपेलैन्ट

छोटे शस्त्र और गन एम्युनिशन में विभिन्न प्रकार के अनुप्रयोगों के लिए विलायक प्रक्रिया द्वारा अनेक एकल बेस मिश्रण विकसित किए गए हैं। इनमें ज्वलन दर और अन्य गुणों को नियंत्रित करने के लिए मोडिफायर्स और स्टैबिलाइजर्स जैसे अन्य तत्वों के साथ नाइट्रोसेलुलोज़ शामिल होता है। इन्हें नलिकाओं, बहु-नलिकाओं या मधुमक्खी के छत्ते के आकारों या गोलाकार गेंदों में निःस्रावित किया जाता है। । इन प्रोपेलैन्टों को सभी भारतीय लघु शस्त्र प्रणालियों में उपयोग किया जाता है।

डबल बेस प्रोपेलैन्ट

गन प्रोजेक्टाइलों और मोर्टार एम्युनिशन के लिए उपयोग किया जाने वाला दोहरा बेस प्रोपेलैन्ट नाइट्रोसेलुलोज़ और नाइट्रोग्लिसरीन तथा अन्य योजकों से मिलकर बना होता है। अनेक संयोजनों को तैयार किया गया है और विभिन्न प्रकार के विन्यासों में विकसित किया गया है।

ट्रिपल बेस प्रोपेलैन्ट

इन प्रोपेलैन्ट को विलायकयुक्त और विलायक रहित प्रक्रियाओं द्वारा किसी भी आकार में निःस्रावित किया जा सकता है।ये निम्न अग्नि तापमान पर उच्च ऊर्जा प्राप्त करने में मदद करते हैं और इस प्रकार बैरेल क्षरण को कम करने में मदद करते हैं।

उच्च ऊर्जा प्रोपेलैन्ट

इन प्रोपेलैन्ट को एमबीटी अर्जुन के लिए 120 एमएम एफएसएपीडीएस एम्युनिशन हेतु विकसित किया जाता है।

लोवा प्रोपेलैन्ट

ये प्रोपेलैन्ट विशेष अनुप्रयोगों के लिए विकसित किए जाते हैं और एनसी, फाइन आरडीएक्स और सेलुलोज़ एसिटेट पर आधारित होते हैं।

दहनशील कार्टरिज केस

एचईएमआरएल ने प्रारंभ में 1967 में आर्टिलेरी गन एम्युनिशन के लिए दहनशील कार्टरिज केस (सीसीसी) विकसित करने की चुनौती ली थी। चूंकि सीसीसी पर अन्य देशों द्वारा किए गए अधिकतर कार्य को पेटेंट कराया जा चुका है,  स्वदेशी सीसीसी के अवधारणात्मक अभिनव प्रोटोटाइप डिज़ाइन को संगठन के भीतर ही तैयार किया गया। एचईएमआरएल ने विभिन्न एम्युनिशन हेतु सफलतापूर्वक सीसीसी विकसित किए हैं।

उच्च विस्फोटक

            विस्फोटक प्रौद्योगिकी का लक्ष्य गन प्रोजेक्टाइलों और मिसाइल वारहेडों की वर्धित घातकता प्राप्त करना होता है। इन उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए, विस्फोट के वेग (वीओडी) और विस्फोट दाब की दृष्टि से विस्फोटकों का उच्च निष्पादन उच्च विस्फोटकों की  सर्वाधिक वांछनीय विशेषता होती है। इसने स्टोइक्योमेट्री और सकारात्मक निर्माण उष्मा (DHf) से नजदीकी ऑक्सीजन बैलेन्स  (ओबी) वाले यौगिकों को खोजने के लिए प्रेरित किया है। एचईएमआरएल ने सभी अनुप्रयोगों के लिए उच्च विस्फोटक संयोजन विकसित किए है।

लचीले रेखीय आकार के चार्ज (एफएलएससी)

विभिन्न कैलीबर के लेड आवरण वाले एफएलएससी के निःस्राव और 0.8 जी/एम से 80 जी/एम तक के विस्फोटक लोडिंग के लिए प्रौद्योगिकी स्थापित की गई है। ये एफएलएससी विस्फोटक भरण-तत्व के रूप में आरडीएक्स आधारित हैं। ये विमान कैनोपी में उपयोग की जाने वाली 7एमएम की विस्तीर्ण एक्रिलिक शीट से लेकर 8 एमएम तक की मोटाई की एमएस शीटों जैसे कठोर लक्ष्यों तक के विभिन्न लक्ष्यों को सफाई से काट सकते हैं। इनमें से कुछ चार्जों को विध्वंस युक्तियों के रूप में उपयोग किया जा रहा है।

प्लास्टिक बॉन्डेड विस्फोटक (पीबीएक्स)

एचईएमआरएल ने विभिन्न अनुप्रयोगों के अनुकूल विभिन्न पीबीएक्स संयोजन हेतु प्रौद्योगिकी स्थापित की है।

चार्ज लाइन माइन क्लियरिंग (वाहन)

यह एक विस्फोटक आधारित माइन क्लियरिंग प्रणाली है। किसी माइन फील्ड पर उपयोग किए जाने पर यह 6 मीटर चौडा और 250 मीटर लम्बा सुरक्षित गलियारा बना देती है। इस प्रकार निर्मित पथ का उपयोग सभी प्रकार के वाहनों के संचलन के लिए किया जा सकता है।

थर्मोबैरिक विस्फोटक

एचईएमआरएल वर्तमान में निर्देशित मिसाइलों और बमों में अनुप्रयोग हेतु थर्मोबैरिक विस्फोटकों को विकसित करने में व्यस्त हैं।

ठोस प्रदाहक (सॉलिड इन्सेन्डियरी)

घूर्णनशील और गैर-घूर्णनशील प्रकार के एम्युनिशन में प्रयोग के लिए उपयुक्त एक ठोस प्रदाहक संयोजन विकसित किया गया है। जलते टुकड़े लगभग 20000से पर जलते हैं और उनके संपर्क में आने वाले किसी भी दहनशील लक्ष्य में आग लगा देते हैं। इसे विभिन्न एम्युनिशन प्रणालियों में विस्तार से मूल्यांकित किया गया है।

ईंधन वात विस्फोटक

एचईएमआरएल द्वारा विभिन्न अनुप्रयोगों के लिए ईंधन वात विस्फोटक प्रौद्योगिकी विकसित की गई है। ईंधन वात विस्फोटक (एफएई) हथियार एयरोसॉल बनाने के लिए वातावरण में द्रव ईंधन को फैलाने और तत्पश्चात एयरोसॉल में विस्फोट करने के सिद्धांत पर डिज़ाइन किया जाता है। एफएई हथियार अप्रबलित संरचनाओं, पार्क किए हुए विमानों, जहाजों के सुपर स्ट्रक्चर, संसूचना स्थापनाओं, बी-वाहनों, ए/टी माइनों, ए/पी माइनों, खुले में मौजूद टुकड़ियों, इत्यादि जैसे विस्फोट सुभेद्य लक्ष्यों को क्षतिग्रस्त करने की उच्च क्षमता रखते हैं।

विस्फोटक प्रतिक्रिया कवच (ईआरए)

ईआरए टैंकरोधी मिसाइल वारहेड के शेप्ड चार्ज जेट को प्रभावशाली रूप से व्यवधान उत्पन्न कर मात देता है। यह उच्च विस्फोटक टैंकरोधी (एचईएटी) और केई खतरों से टैंक की रक्षा करता है। पैनलों को हटाए बिना पैनलों में प्रतिक्रियात्मक तत्वों को फिट किए जाने का प्रावधान रखता है और इस प्रकार टैंक को तेजी से शस्त्र-सज्जित करने में मदद करता है।

ईआरए एमके-I फिट किया हुआ टी-72  एमबीटी ईआरए एमके- II फिट किया हुआ अर्जुन एमके-II

माइन इन्फ्लैम्मैबल (एमआई)

इस माइन को चालू करने पर, एक लपट उत्पन्न होती है जो जल पर बहती है। इसे जल की सतहों पर दुश्मन के संचलन को रोकने के लिए प्रभावी रूप से उपयोग किया जा सकता है।

पायरोटेक्निक्सः

विद्युत-विस्फोटक युक्तियां

विद्युत विस्फोटक युक्तियां (ईईडी) विभिन्न प्रचालनों हेतु विस्फोटक श्रृंखला को विश्वसनीय रूप से चालू करने के लिए होती है। 500 एमए के शून्य फायर करंट और 2ए के ऑल फायर करंट वाली ईईडी विकसित की गई हैं।

अवरक्त लपटें (इंफ्रारेड फ्लेयर्स)

2000 वाट/स्टेरेडियन से अधिक घनत्व वाली और 60 से. से अधिक समय तक जलने वाली इंफ्रारेड फ्लेयर विकसित की गई हैं। यह फ्लेयर विमान में फिट किए गए आईआर निर्देशित मिसाइल द्वारा टो बॉडी का स्थान सुनिश्चित करने में मदद करती है। यह संयोजन समान प्रभावों को प्राप्त करने के लिए विभिन्न कैलिबरों के एम्युनिशन में भरे जाने के लिए उपयुक्त है।

81 मिमी थर्मल-रोधी लेजर-रोधी (एटी-एएल) स्मोक ग्रेनेड

तात्कालिक स्मोक स्क्रीन, जो इलैक्ट्रो-ऑप्टिक उपकरणों को अस्पष्ट करने में सक्षम है, उसे 81 मिमी कैलिबर ग्रेनेड की तैनाती से विकसित किया गया है। विभिन्न कैलिबर्स के गोला बारूद में इस संरचना के भरने द्वारा समान प्रदर्शन को प्राप्त किया जा सकता है।

पायरोटेक्निक डिले

डिले प्रणालियां एम्युनिशन में घटना पृथक्करण के लिए होती है। एचईएमआरएल ने 30एमएस से 30 से तक के डिले को पैदा करने हेतु संयोजन विकसित किए हैं।

चमक पैदा करने वाले संयोजन (इल्युमिनेटिंग कम्पोजिशन)

चमक पैदा करने वाले संयोजन, जो 50 से. से अधिक की प्रज्वलन अवधि के साथ 15 लाख कैन्डेला की चमक तीव्रता रखते हैं, विभिन्न कैलिबर के मोर्टार और गन एम्युनिशन हेतु विकसित किए गए हैं।

155एमएम फील्ड गन हेतु बाई-मॉड्युलर चार्ज प्रणाली

बीएमसीएस सरल प्रचालन और भंडारण/परिवहन तथा युद्ध परिदृश्य के दौरान कम लॉजिस्टिक्स के कारण पारंपरिक कपड़े के बैग वाले चार्जों से अधिक लाभप्रद है। दो प्रकार के मॉड्युलर चार्ज { निम्न जोन (1 एवं 2) और उच्च जोन (3,4,5 एवं 6)} वर्तमान के अधिक संख्या में भिन्न-भिन्न बैगों वाले सब चार्जों को प्रतिस्थापित करते हैं और इस प्रकार बचे हुए चार्जों के निपटान से बचते हैं। दहनशील केस प्रोपेलैन्ट और संबद्ध अवयवों को पर्यावरण एवं अनियोजित उत्तेजकों से बचाते हैं। स्वचालित लोडिंग प्रणाली का प्रयोग करके तीव्र लोडिंग करने के कारण फायर की उच्चतर दर प्राप्त की जा सकती है।

एचईएमआरएल द्वारा विकसित बीएमसीएस को  बोफोर्स और सॉलटैम जैसी विभिन्न 155 एमएम आर्टिलेरी गन प्रणालियों के लिए प्रोपल्शन प्रणाली के रूप में उपयोग किया जा सकता है।

रसायनिक इंजीनियरी और प्रायोगिक संयंत्र

एचईएमआरएल में प्रयोगशाला स्तर पर (मि.ग्रा. से ग्रा. स्तर पर) बड़ी संख्या में उच्च ऊर्जा पदार्थ (एचईएम) और संबद्ध रसायन बनाए जा रहे हैं। इन पदार्थों के लिए प्रक्रियाओं को और उन्नत बनाए जाने की आवश्यकता है। अतीत में कई उत्पाद विकसित किए गए हैं और एचईएमआरएल में सीमित श्रृंखला उत्पादन के लिए प्रायोगिक संयंत्र उत्पादन स्थापित किए गए हैं।

 

 
.
.
.
.
Top