संपर्क
DRDO
मुख्य पृष्ठ >डीआरडीएल> कार्यक्षेत्र

कार्यक्षेत्र

सिस्टम डिजाइन और इंजीनियरिंग

अभिकल्पन एवं अभियंत्रिकी प्रणाली विभिन्न सामरिक एंव बैलिस्टिक मिसाइलों का  अभियान विश्लेषण, प्रणाली अभिकल्पन, अनुरूपण और उड़न बाद के विश्लेषण की शुरुआत प्रणाली परिभाषा और संभाव्यता अध्ययन, विभिन्न उपप्रणालियों के विशिष्टीकरण एवं प्रणाली विन्यास को अंतिम रूप देने से होती है। सभी आईजीएमडीपी मिसाइलों, एडी (exo एवं endo वातावरणीय बाधा), एसएफ एवं आस्ट्रा प्रयोजनाओं के लिए उक्त सभी को सफलतापूर्वक पूर्ण किया गया है।

कमांड निर्देशन, अन्वेषण आधारित निर्देशन, मध्यपथ /सावधिक निर्देशन एवं नियंत्रण प्रणाली अभिकल्पन सहित विभिन्न निर्देशन विधियां विकसित कर ली गई हैं। इन मिसाइल प्रयोजनाओं के लिए प्रक्षेप-पथ एवं मिसाइल अभिकल्पन, कार्यप्रदर्शन विश्लेषन, उड़ान अनुमति एवं उड़ानोत्तर परीक्षण के लिए बहुत महत्वपूर्ण योगदान हुआ है। बहुविध-संवेदी आंकड़ा पृथक्करण विधि, कमांड एवं नियंत्रण के लिए आयुध प्रणाली विधि, अरेखीय आटोपायलट अभिकल्पन, प्रक्षेपपथ बढ़ाने, विमानन परिमापन आकलन आदि पर विभिन्न विशिष्ट साफ्टवेयर विकसित किए गए हैं।

वायुगतिकीय विज्ञान

विश्लेषणात्मक, अभिकलनात्मक (कम्प्यूटेशनल) और प्रयोगात्मक विधियों का उपयोग कर वायुगतिकीय डिजाइन और विभिन्न सामरिक और बैलिस्टिक उड़ान वाहनों के लक्षणों का वर्णन किया जाता है। अवधारणात्मक और प्रारंभिक डिजाइन में तेज भविष्यकथन के तरीकों का उपयोग किया जाता है जिन्हें सीएफडी और पवन सुरंग परीक्षण द्वारा आगे परिष्कृत किया जा रहा है।

तटस्थ स्थिरता, कम पहलू अनुपात पंख और नियंत्रण सतहों, हाइपरसॉनिक हवाई थर्मल विशेषताओं आदि जैसी अत्याधुनिक डिजाइन सुविधाओं का उपयोग कर सभी मिसाइलों के वर्द्धित वायुगतिकीय विन्यास डिजाइन किए जाते हैं। डिजाइन में सुधार के लिए बहु-अनुशासनिक डिजाइन अनुकूलन (एमडीओ), ग्रिड फिन प्रौद्योगिकी का भी अध्ययन किया जाता है। विभिन्न मिसाइल प्रणालियों के लिए पूर्ण उड़ान लिफाफे के लिए वायुगतिकीय डेटा उत्पादन, एयरफ्रेम की डिजाइन के लिए भार वितरण का अनुमान, नियंत्रण दक्षता और हिंज मोमेंट का आकलन, हवा में प्रक्षेपित मिसाइलों और बहुचरण वाहनों के लिए भंडार/चरण अलगाव का अध्ययन, हवा की खपत की डिजाइन और रैमजेट/स्क्रैमजेट प्रणोदन प्रणाली आदि के लक्षणों का वर्णन किया गया है। सुपरसोनिक पवन सुरंग, एयरो बैलिस्टिक रेंज, हाइड्रो बेसिन, झटका (शॉक) सुरंग, लुडविग ट्यूब और हाइपरसोनिक पवन सुरंग जैसी विभिन्न वायुगतिकीय परीक्षण सुविधाओं को स्थापित किया गया है।

प्रणोदन (संचालक शक्ति)

तरल और ठोस प्रणोदकों का उपयोग कर विभिन्न मिसाइल कार्यक्रमों के लिए अलग-अलग बलों के साथ प्रणोदन प्रणालियां विकसित की गई हैं। बिप्रोपेलेंट तरल रॉकेट इंजन, बिप्रोपेलेंट प्रतिक्रिया नियंत्रण प्रणाली और वेग कम करने (ट्रिमिंग) वाले पैकेज (वीटीपी) का विकास, मोड़ और उच्चता नियंत्रण प्रणाली, ठंडी गैस प्रतिक्रिया नियंत्रण प्रणाली आदि तरल प्रणोदन प्रणाली में कुछ उल्लेखनीय उपलब्धियाँ हैं।

वर्तमान समय में तरल ईंधन रैमजेट और पल्स विस्फोट इंजन के विकास के लिए कार्यक्रम प्रगति पर हैं। महत्वपूर्ण ठोस प्रणोदन प्रणालियों के विकास में एकीकृत ठोस ईंधन रैम रॉकेट, जेट फलक बल वेक्टर नियंत्रण सहित ठोस प्रणोदक बूस्टर (4 पंख फिनोसिल ग्रेन विन्यास), दोहरा पल्स ठोस प्रणोदन रॉकेट, रॉकेट मोटर के लिए सुरक्षित और हाथ इग्निशन प्रणाली तथा ईपीडीएम आधारित थर्मल इन्सुलेशन प्रणाली आदि शामिल हैं। विभिन्न तरल इंजनों के परीक्षण के लिए तरल प्रणोदन इंजन विकास सुविधा, बैंड रॉकेट इंजन के लिए क्षैतिज और ऊर्ध्वाधर परीक्षण सुविधा और तरल रैमजेट परीक्षण सुविधा के रूप में विभिन्न परीक्षणों की सुविधाओं को स्थापित किया गया है।

कम्प्यूटेशनल (अभिकलनात्मक) गतिशीलता
1.मिसाइल पर वोर्टेक्स (चक्कर) गठन     2.  विमान से मिसाइल को अलग करन     3. जेट वेन (फलक) पर प्रवाह क्षेत्र

प्रयोगात्मक जांच और उड़ान परीक्षण दोनों के समय और पैसे की दृष्टि से बहुत महंगे होने की वजह से जटिल मिसाइल विन्यास पर बाह्य और आंतरिक प्रवाह क्षेत्र के संख्यात्मक अनुकार, मिसाइल प्रणाली के डिजाइन के लिए सटीक वायुगतिकीय और प्रणोदन विशेषताओं का आकलन करने में एक बढ़ती हुई भूमिका निभा रहे हैं।

डीआरडीएल ने पूर्ण मिलान संख्या और उड़ान के हमले के कोण को शामिल कर चिपचिपे और चिपचिपाहट पूर्ण प्रवाह दोनों के साथ निपटने के लिए गतिज योजनाओं का उपयोग कर उन्नत उद्योग मानक 3डी यूलर (Euler) और रैन्स (RANS) कोड का एक होस्ट विकसित किया है। इन कोडों को विश्वसनीय प्रायोगिक परिणामों के खिलाफ बड़े पैमाने पर मान्यीकृत किया गया है और नियमित रूप से एक डिजाइन उपकरण के रूप में इनका इस्तेमाल किया जा रहा है। मिसाइल के डिजाइन में उन्नत संख्यात्मक तरीकों का प्रयोग विकास लागत और समय में उल्लेखनीय कमी ला सकते हैं। सीएफडी में हाल के विकास घटनाक्रम में वायुगतिकीय सतहों और स्टोर अलगाव गतिशीलता के नियंत्रण विशेषताओं का अनुमान लगाने में 3 - डी क्यू–एलएसकेयूएम (3-D q-LSKUM) सॉफ्टवेयर का प्रयोग शामिल है।

एक नया अस्थिर सीएफडी समाधानकर्ता (साल्वर) केएफएमजी (KFMG) विकसित किया गया है और कम्प्यूटेशनल एयरोलास्टिक विश्लेषण करने के लिए इसका प्रयोग किया जा रहा है। कम घनत्व वाले पुनःप्रविष्टि प्रवाह के लिए एक यूलर-बोल्ट्जमैन युग्मित समाधान कर्ता (साल्वर)  भी विकसित किया गया है। अभिकलनात्मक (कम्प्यूटेशनल) दहन गतिशील क्षेत्र क्षमता में अशांत प्रतिक्रियात्मक प्रवाह को संख्यात्मक अनुकार में विकसित किया गया है। विभिन्न चल रही और भविष्य की मिसाइल परियोजनाओं के लिए प्रणोदन प्रणालियों को तैयार किया जा रहा है और वाणिज्यिक सीएफडी सॉफ्टवेयर का उपयोग कर उनका विश्लेषण किया जा रहा है। जैसे स्क्रैमजेट कम्बस्टर प्रवाह क्षेत्र अनुकार, जेट वेन प्रवाह क्षेत्र अनुकार, हवा में सांस लेने वाली(एयर ब्रिदिंग) मिसाइलों के टिप-टू-टेल एयरो प्रणोदक अनुकार, निकास पंख और आधार क्षेत्र में मुक्त धारा अंतःक्रिया, संयुग्म ताप स्थानांतरण अध्ययन आदि। प्रज्वलन (इग्निशन) मॉडलिंग, परमाणवीकरण (एटोमाइजेशन) मॉडलिंग, अशांति- रसायन अंतःक्रिया और बड़े एडी अनुकार (एलईस) जैसे विभिन्न उन्नत विषयों को संस्था में और शैक्षिक संस्थानों के साथ सहयोग में भी चलाया जा रहा हैं।

उड़ान संरचनाएं

डीआरडीएल को मिसाइलों के संरचनागत डिजाइन और विकास के क्षेत्र में विशेषज्ञता प्राप्त है। वर्तमान में ऊंचे उष्ण (थर्मल) पर्यावरण के डिजाइन और गतिशील पर्यावरण के डिजाइन के क्षेत्रों पर जोर दिया जा रहा है। डिजाइन संरचनात्मक और उष्ण (थर्मल) दोनों भारों के मूल्यांकन के साथ शुरू होती है। एयरफ्रेम के भागों को इन भारों को झेलने के लिए डिजाइन किया जाता है। उष्ण (थर्मल) भार मिसाइलों की उच्च मैच संख्या में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

यह भार उचित सामग्री का चयन, थर्मल बाधा कोटिंग्स के चयन और थर्मल तनाव के मूल्यांकन को तय करता है। वायुगतिकीय सतहों और संबद्ध तंत्र के डिजाइन के लिए इन्हें तैनात करना काम का एक महत्वपूर्ण क्षेत्र है। खुलने का तंत्र सक्रिय या निष्क्रिय हो सकता है। डिजाइन तैनाती समय और तैनाती के समय में वायुगतिकी भार द्वारा शासित है। इस समूह द्वारा मिसाइलों की गतिशील विशेषताओं को भी सैद्धांतिक रूप से मूल्यांकित और प्रयोगात्मक रूप से मान्य किया जाता है। जमीनी प्रतिक्रिया परीक्षण सुविधा मोड आकृतियों को संभाल सकती हैं। एकाधिक उद्दीपन दिया जा सकता है और गतिशील विशेषताओं को प्राप्त करने के लिए त्वरणमापी डेटा संसाधित किया जाता है।

डिजाइन को मान्य करने के लिए सभी संरचनाओं का परीक्षण किया जाता है। इस समूह में सामग्री के परीक्षण और संरचनात्मक परीक्षण की सुविधा है। संरचनात्मक भार और बाहरी दबाव भारों के संयुक्त वातावरण में और ऊंचे तापमान पर भी संरचनाओं का परीक्षण किया जा सकता है। उड़ान शर्तों के अनुकरण के लिए उष्ण-संरचनात्मक परीक्षण सुविधा की स्थापना की गई है। संयुक्त उच्च तापमान, संरचनात्मक और बाहरी दबाव के भार के संगठन को विकसित करने के प्रयास हो रहे हैं।

कंप्यूटर और संचार

डीआरडीओ कम्प्यूटर सेंटर 1983 में कार्यात्मक बन गया। तब से समूह अपने विकसित कंप्यूटर सेटअप के माध्यम से विभिन्न प्रोग्रामरों के लिए योगदान करता रहा है। आज यह समूह C4I के क्षेत्रों में गतिविधियों और मिशन की महत्वपूर्ण सॉफ्टवेयर (IV एवं V) के स्वतंत्र सत्यापन और मान्यीकरण के लिए जिम्मेदार है। C4I प्रणाली कमान नियंत्रण केंद्र है, जो कमांडरों को सभी सोपानों पर निर्णय लेने के लिए सही, समय पर और विश्वसनीय जानकारी प्रदान करता है।

वे प्रक्रिया, प्रदर्शन और विकासशील स्थिति का मूल्यांकन करने के लिए साधन प्रदान करते हैं। C4I सिस्टम को कई दिशाओं से आने वाले बहु लक्ष्य परिदृश्यों को संभालने के लिए डिजाइन किया गया है। इस समूह के प्रयासों के परिणाम से विभिन्न मिसाइल कार्यक्रमों के लिए C4I प्रणाली का विकास और प्रस्तुति हुई है।

आईजीएमडीपी कार्यक्रम की स्थापना के बाद से एक स्वतंत्र सत्यापन और मान्यीकरण समूह कार्यात्मक बना है। समूह का उद्देश्य है ग्राहक की आवश्यकता के अनुसार मिशन महत्वपूर्ण सॉफ्टवेयर का प्रभावी सत्यापन और कम से कम 6 सिग्मा के स्तर पर विकसित किसी भी सॉफ्टवेयर में बगों की संख्या को कम करना। चतुर्थ और डीआरडीएल की IV एवं Vवीं टीम ने सभी परियोजनाओं के सभी मिशन महत्वपूर्ण सॉफ्टवेयर और अन्य डीआरडीओ प्रयोगशालाओं की परियोजनाओं की पुष्टि की है। सॉफ्टवेयर मूल्यांकन और सत्यापन के व्यावसायिक उपकरणों के उपयोग के अलावा कई आंतरिक (इन-हाउस) उपकरण विकसित किए गए हैं।

इंजीनियरिंग और निर्माण

मिसाइल की उपप्रणालियों के लिए हार्डवेयर के विकास के लिए सबसे पहले डीआरडीएल में निर्मित प्रौद्योगिकी को बाहरी एजेंसियों को सौंप दिया जाता है। उत्पाद परिदृश्य (स्पेक्ट्रम) की सीमा में अंतःप्रतिच्छेदन बंधन से उच्च प्रौद्योगिकी अन्वेषक मार्गदर्शन प्रणाली तक शामिल है। डीआरडीएल इंजीनियरिंग और निर्माण सुविधाएं अत्याधुनिक प्रौद्योगिकियों का उपयोग कर एकीकृत उत्पादों और प्रक्रियाओं को विकसित करने और विश्व स्तरीय मिसाइल प्रणाली हार्डवेयर का उत्पादन करने और देने में सक्षम हैं।

डीआरडीएल में गैर विनाशकारी परीक्षण और मूल्यांकन, समूह परीक्षण और मिसाइल प्रणालियों और उप प्रणालियों की योग्यता के लिए स्थापित गुणवत्ता प्रथाओं और अत्याधुनिक आंतरिक बुनियादी ढांचे के साथ एक मजबूत गुणवत्ता नियंत्रण और गुणवत्ता आश्वासन नीति कार्यरत हैं।

अभियांत्रिकी एवं निर्माण के क्षेत्र में मुख्य क्षमताएं हैं:
  • आदर्श विकास, प्रस्तुति और उत्पादनीकरण तंत्र
  • विशेष उपकरण का डिजाइन और विश्लेषण एवं प्रक्रिया विकास उपकरण
  • ढलाई, सांचे, उपकरण डिजाइन और
  • निर्माण, विभिन्न सॉफ्टवेयर की एकीकृत विनिर्माण प्रणाली
  • वेल्डिंग प्रौद्योगिकियां

सीमा एवं यंत्रीकरण (इंस्ट्रूमेंटेशन)

रेंज इंस्ट्रूमेंटेशन समूह कार्य केन्द्रों के लिए और क्षेत्र इंस्ट्रूमेंटेशन आवश्यकताओं के लिए सभी आवश्यक इंस्ट्रूमेंटेशन प्रदान करता है। यह समूह विभिन्न प्रकार की प्रणोदन प्रणालियों के स्थैतिक परीक्षण सुविधा की अवधारणात्मक डिजाइन और कार्यान्वयन के लिए मान्यता प्राप्त है।

इस क्षेत्र की विशिष्ट गतिविधियां निम्नलिखित हैं:
  • प्रणोदन प्रणालियों का प्रदर्शन मूल्यांकन, जिन्हें मिसाइल प्रोग्रामरों के लिए निर्मित और विकसित किया गया है।
  • थ्रस्ट वेक्टर नियंत्रित प्रणोदन प्रणालियों के लिए छह घटक स्थैतिक परीक्षण
  • फ्लेक्स नोजल नियंत्रण प्रणालियों का मूल्यांकन
  • स्क्रैमजेट/रैमजेट प्रणोदन प्रणालियों जैसी उन्नत प्रणोदन प्रणाली के विकास और परीक्षण के लिए यंत्रीकरण (इंस्ट्रूमेंटेशन)

परियोजनाएं
आकाश

सतह से हवा में वार करने वाली सुपरसोनिक मिसाइल 'आकाश'  में लगभग 25किमी की सीमा है और यह विखंडन बम (हथियार) वहन करती है जो रेडियो निकटता फ्यूज द्वारा संचालित है। यह मिसाइल अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी एकीकृत रैमजेट रॉकेट प्रणोदन प्रणाली का उपयोग करती है और जहाज पर स्थित डिजिटल स्वचालित पायलट स्थिरता और युद्धकौशल को सुनिश्चित करता है। बहु-कार्य चरणबद्ध सरणी राडार लक्ष्यों का पता लगाता है और मिसाइलों को उनकी ओर निर्देशित करता है। प्रभावी रूप से हवा के खतरों का प्रबंधन करने के लिए हथियार प्रणाली के पास रडार सेंसर का एक नेटवर्क होता है।

मुख्य विशेषताएं
  • बहु दिशात्मक, बहुलक्ष्य कार्य
  • पूर्ण स्वचालित प्रचालन
  • लक्ष्य – लड़ाकू ए/सी, यूएवी, हेलीकाप्टर, क्रूज मिसाइल
  • सभी क्षेत्रों में गतिशीलता
  • सभी मौसमों में प्रचालनीय
  • उन्नत ईसीसीएम
  • उपयोगकर्ता की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए विन्यस्त अभ्यास (व्यवहार)
नाग (तीसरी पीढ़ी की एंटी-टैंक मिसाइल)

तीसरी पीढ़ी की एंटी-टैंक मिसाइल प्रणाली 'नाग' में "फेंको और भूल जाओ" तथा "शीर्ष आक्रमण" क्षमताएं है। प्रक्षेपण पूर्व बंद (लॉक) छाया अवरक्त (आईआईआर) होमिंग इसे दिन-रात के संचालन के लिए क्षमता प्रदान करता है। यह मैकेनाइज्ड इंफेंट्री और हमलावर हेलीकाप्टर संरचनाओं के लिए एक दुर्जेय समर्थन हथियार के रूप में श्रेष्ठ मिसाइल है। छाया अवरक्त होमिंग अन्वेषक में हर मौसम में दिन और रात संचालन की क्षमता है।

नाग प्रणाली "नेमिका", एक ट्रैक किए गए वाहन और एक हेलीकाप्टर पर तैनाती के लिए है। भारी कवच को हराने के लिए उन्नत होमिंग मार्गदर्शन प्रणाली और अग्रानुक्रम आकार के प्रभारी हथियार (बम) का उपयोग करने वाले शीर्ष आक्रमण मोड का प्रयोग किया जाता है। इसके अतिरिक्त, उच्च ऊर्जा, निर्धूम प्रणोदक, ​​हल्के वजन, मुड़ने योग्य पंखों और परों के साथ उच्च शक्ति समग्र एयरफ्रेम, तेज और कुशल एल्गोरिदम के साथ जहाज पर वास्तविक समय प्रोसेसर, कॉम्पैक्ट सेंसर पैकेज और बिजली प्रेरण (एक्चुयेशन) प्रणाली, डिजिटल स्वचालित पायलट और काउंटर उपाय करने के लिए उच्च उन्मुक्ति इस मिसाइल को एक अत्याधुनिक टैंक रोधी निर्देशित मिसाइल प्रणाली बनाते हैं।

मुख्य विशेषताएं
  • सीमा - 4.0 किमी.
  • फायर और बल क्षमता लांच मोड से- पहले- बंद (लॉक) स्थिति में
  • दिन और रात में संचालन (छाया अवरक्त अन्वेषक)
  • शीर्ष आक्रमण क्षमता
  • उच्च एसएसकेपी (एकल प्रहार मारक संभाव्यता)
  • भविष्य के टिक टैंकों और अन्य कठिन लक्ष्य को हराने की क्षमता
नेमिका (एनएएमआईसीए)

मुख्य विशेषताएं

  • बुर्ज पर प्रक्षेपण के लिए तैयार 8 मिसाइलें
  • भंडारण में 4 अतिरिक्त मिसाइलों के लिए विकल्प
  • 1 मिनट में 4 मिसाइलों को प्रक्षेपित किया जा सकता है
  • बीएमएफ-11 से मिलान युक्त गतिशीलता
आस्ट्रा

एस्ट्रा अत्यधिक कौशल युक्त सुपरसॉनिक हवाई लक्ष्यों को रोकने और नष्ट करने के लिए स्वदेशी रूप से निर्मित और विकसित दृष्टि सीमा के बाहर (बीवीआर) हवा से हवा में मार करनेवाली मिसाइल है। यह बेहद चुस्त और सटीक मिसाइल उच्च गति से, उच्च तिकड़मी लक्ष्यों का अवरोधन कर सकती है और उच्च स्तर के कौशल को गिरा सकती है। इस वाहन की मारक सीमा दुश्मन को बचाव का कोई मौका नहीं देती। यह उच्च प्रक्षेपण सीमा क्षमता प्राप्त करने के लिए सबसे कम वजन वाला अपने वर्ग का अकेला अस्त्र है, यह हथियार प्रणाली भारतीय वायु सेना और एलसीए के एसयू 30एमकेआई, मिराज 2000 जैसे प्लेटफार्मों के लिए डीआरडीओ द्वारा विकसित की गई है।

मुख्य विशेषताएं

  • विभिन्न लड़ाकू विमान के लिए अनुकूलनीय विमानस्थ (एयरबोर्न) प्रक्षेपक
  • निर्धूम प्रणोदन (प्रपल्सन)
  • इनर्शल मिड-कोर्स और टर्मिनल होमिंग
  • अत्याधुनिक ईसीसीएम विशिष्टताएं
  • सभी मौसमों में सक्षमता
  • प्रक्षेपण गति 0.4 मी. से 2मी.
  • प्रक्षेपण ऊँचाई एसएल से 20किमी.
  • प्रक्षेपण दूरी 80 किमी.

पीजे-10

ब्रह्मोस विदेशी सहयोग के साथ डीआरडीएल द्वारा विकसित एक सुपरसॉनिक क्रूज मिसाइल प्रणाली है। डीआरडीओ के हिस्से का कार्य कार्यक्रम पीजे10 के तहत निष्पादित किया जा रहा है।

मुख्य विशेषताएं
  • संपूर्ण (इंटीग्रल) बूस्टर और उच्च प्रदर्शन रैमजेट प्रणाली
  • ईंधन आधारित प्रवर्तन प्रणाली
  • नोज कैप नियंत्रण प्रक्षेपक
  • जड़त्वीय (इनर्शल) परिभ्रमण प्रणाली
  • सक्रिय रडार अन्वेषक
हेलीना (हेलीकाप्टर प्रक्षेपित एंटी टैंक (टैंक रोधी) मिसाइल)

हेलीना नामक परियोजना के अंतर्गत नाग मिसाइल के एक हेलीकाप्टर से प्रक्षेपित किए जाने वाले संस्करण को विकसित किया जा रहा है। इस मिसाइल में नाग मिसाइल प्रणाली की अन्य सभी विशेषताओं के साथ 7 कि.मी. की एक सीमा होगी।

 

एचएसटीडीवी (हाइपरसॉनिक प्रौद्योगिकी प्रदर्शक वाहन)

एचएसटीडीवी परियोजना केरोसिन का उपयोग करने वाले एक स्क्रैमजेट एकीकृत वाहन के स्वायत्त उड़ान का प्रदर्शन करने के उद्देश्य युक्त एक प्रौद्योगिकी प्रदर्शक है। संबंधित प्रौद्योगिकियां न केवल भारत के लिए बल्कि दुनिया भर में पूरे अंतरिक्ष (एयरोस्पेस) समुदाय के लिए नई हैं और इसमें नागरिक, सैनिक और अंतरिक्ष के क्षेत्रों में अनुप्रयोग की संभावनाएं हैं।

एक प्रदर्शक उड़ान वाहन को लगभग 20 सेकंड की एक छोटी अवधि के लिए स्क्रैमजेट प्रौद्योगिकी के प्रदर्शन के लिए परिकल्पित किया गया है।

मिशन

  • मैच सं.                                        6.5
  • उच्चता                                     32.5 किमी.
  • क्रूज वाहन की उड़ान अवधि              20 सेकेंड
.
.
.
.
Top