संपर्क

प्रयोगशाला पुरस्कार


1986 का डीआरडीओ साइंटिस्ट ऑफ द यर अवार्ड कम्पोजिट कंचन आर्मर हेतु एंटीबैलिस्टिक एफआरपी सामग्रियों के विकास के लिए एम एन शर्राफ, वैज्ञानिक, 'डी' को प्रदान किया गया।
डीआरडीओ ने उत्कृष्ट वैज्ञानिक और तकनीकी उपलब्धियों के लिए 1987 में डीएमएसआरडीई को प्रतिष्ठित टाइटेनियम ट्रॉफी प्रदान की।
जनवरी, 2001 में नई दिल्ली में भारतीय राष्ट्रीय विज्ञान कांग्रेस के 88वें सम्मेलन के दौरान भारतीय राष्ट्रीय विज्ञान कांग्रेस एसोसिएशन, कोलकाता द्वारा डा. पी. श्रवणन, वैज्ञानिक 'बी' को आईएससीए युवा वैज्ञानिक पुरस्कार, 2002 से सम्मानित किया गया।
डा. के. मुखोपाध्याय, वैज्ञानिक 'सी' को 2001 में डीआरडीओ युवा वैज्ञानिक पुरस्कार से नवाज़ा गया।
श्री एस. बी. पांडे, टीओ 'सी' को वर्ष 2003 के लिए आर एंड टी मुख्यालय, डीआरडीओ, नई दिल्ली द्वारा डीआरटीसी श्रेणी में बेस्ट वर्कर अवार्ड से सम्मानित किया गया है।
डा. पी. श्रवणन, वैज्ञानिक 'सी' को 2003 में डीआरडीओ युवा वैज्ञानिक पुरस्कार से नवाज़ा गया।
डा. अनुराग श्रीवास्तव, वैज्ञानिक 'एफ' को एनबीसी सुरक्षात्मक प्रणालियों के विकास को संभव बनाने वाले सुरक्षात्मक कपड़ों के क्षेत्र में उनके बहुमूल्य वैज्ञानिक योगदानों के लिए वर्ष 2010 का डीआरडीओ साइंटिस्ट ऑफ द यर अवार्ड प्रदान किया गया।

श्री ओम प्रकाश गौतम, तकनीकी अधिकारी 'बी' को टी-90 टैंकों हेतु हल्के वज़न के एनबीसी शील्डिंग पैडों के विकास में महत्वपूर्ण योगदान के लिए 'सर्वोत्तम निष्पादन पुरस्कार 2010' प्रदान किया गया।
डा. ए के सक्सेना, ओएस एवं निदेशक और उनके दल को पायलट स्केल पर मल्टीफंक्शनल प्रीकर्सर मैटेरियल (पोलीकार्बोसिलेन) तैयार करने की अभिनव संश्लेषण पद्धति के विकास में उनके महत्वपूर्ण योगदान के लिे बेस्ट इन्नोवेशन/फ्यूचरिस्टिक डेवलपमेंट अवार्ड 2011 प्रदान किया गया।
श्रेणी सं. 10 में डीआरडीओ अवार्ड- 2014,- पाथ ब्रेकिंग रिसर्च/आउटस्टैंडिंग टेक्नालजि डेवलपमेंट डा. डी.एन. त्रिपाठी, वैज्ञानिक 'एफ' और दल- श्री शशांक मिश्रा, टीओ 'सी' और श्री हरजीत सिंह, टीओ 'सीओ' को प्रदान किया गया।
श्रेणी सं. IV में डीआरडीओ अवार्ड-2015, युवा वैज्ञानिक अवार्ड श्री बबलू मोर्डिना, वैज्ञानिक 'सी' को प्रदान किया गया।

निदेशक (डा. एन. ई. प्रसाद) के पुरस्कार- राष्ट्रीय
1.  डीआरडीओ के एस्ट्रा एयर-टू-एयर मिसाइल कार्यक्रम हेतु एल्युमीनियम मिश्रधातु विकास, प्रमाणन और उत्पादन के लिए एयरोनॉटिकल सोसायटी ऑफ इंडिया के प्रतिष्ठित डा. वीएम घटके अवार्ड हेतु चयनित

2.  मेटैलर्जिकल इंजीनियरिंग विभाग, भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (बनारस हिंदू विश्वविद्यालय), वाराणसी, भारत के वर्ष 2013 में डबल सैफ़ायर जुबली वर्ष समारोह के दौरान इसके डिस्टिंग्विश्ड एल्युमनस अवार्ड हेतु चयनित

3.  भारतीय रक्षाबलों हेतु एयरोनॉटिकल सामग्रियों के विकास के क्षेत्र  में किए गए उत्कृष्ट योगदानों की मान्यतास्वरूप इस्पात मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा भारतीय धातु संस्थान के मेटैलर्जिस्ट ऑफ द यर-2010 के  राष्ट्रीय मेटैलर्जिस्ट दिवस (एनएमडी) अवार्ड हेतु चयनित

पुरस्कार प्राप्तकर्ताओं की सूची- 2005 डीआरडीओ स्तर पुरस्कार-

श्रेणी सं.

पुरस्कार का नाम

पुरस्कार प्राप्तकर्ता का नाम

विषय

10

पाथ ब्रेकिंग रिसर्च/आउटस्टैंडिंग टेक्नालजि डेवलपमेंट

1.डा. डी.एन. त्रिपाठी, वैज्ञानिक 'एफ'
2.श्री शशांक मिश्रा, टीओ 'सी'
3.श्री हरजीत सिंह, टीओ 'सीओ'

दल ने सैन्य एवं एयरफ्रेम प्रणाली और साथ ही डीआरडीओ द्वारा विकसित प्रणाली  हेतु रबड़, थर्मो-प्लास्टिक एवं कार्बो-ग्रैफाइट इत्यादि जैसी विभिन्न पोलीमेरिक सामग्रियों के उच्च निष्पादन सीलों के क्षेत्र में उत्कृष्टता केन्द्र के रूप में डीएमएसआरडीई को स्थापित करने के लिए महत्वपूर्ण योगदान दिया है।

 

प्रयोगशाला स्तरीय साइंटिस्ट ऑफ द यर अवार्ड 25000/-रूपये (प्रत्येक)

क्रम सं.

नाम और पदनाम

विषय

1.

डा. देब माल्या रॉय, वैज्ञानिक 'ई'

वैज्ञानिक ने एडवांस्ड टोरपैड प्रोपल्शन मोटर हेतु एफ-सीएनटी, ग्लास फाइबर इत्यादि पर आधारित कम्पोजिट पैनलों के विकास में योगदान दिया है।

2.

श्री मृत्युंजय कुमार पांड, वैज्ञानिक ''

वैज्ञानिक ने सफलतापूर्वक पोलीकार्बोसिलेन्स और पोलीसिलोक्सेन आधारित सिंथेटिक ल्यूब्रिकेन्ट्स विकसित किया है।

प्रयोगशाला स्तरीय टेक्नोलजि ग्रुप अवार्ड 50,000/-रूपये

क्रम सं.

नाम और पदनाम

प्रौद्योगिकी का विवरण

1.

डा. अशोक रंजन, वैज्ञानिक 'एफ'
डा. सुरेश कुमार, वैज्ञानिक 'ई'
श्री राघवेश मिश्रा, वैज्ञानिक 'डी'
श्री राकेश कुमार गुप्ता, वैज्ञानिक 'डी'
डा. मनोज कुमार मिश्रा, वैज्ञानिक 'सी'

दल ने पीआईपी प्रक्रिया द्वारा एकल-दिशा वाला सी/एसआईसी कम्पोजिट सफलतापूर्वक विकसित किया है जो एलएसआई और सीवीआई प्रक्रिया द्वारा तैयार किए गए इसके समकक्ष के काफी अधिक श्रेष्ठ पाया गया।

डीआरटीसी हेतु प्रयोगशाला स्तरीय अवार्ड 10,000/-रूपये (प्रत्येक)

क्रम सं.

नाम और पदनाम

प्रौद्योगिकी का विवरण

1.

श्री आर डी वर्मा, टीओ, 'बी'

इन्होंने ओएमवीपीई तकनीक द्वारा सिक (एसआईसी) थिन फिल्मों के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया है।

2.

श्री पी के अवस्थी, टीओ, 'सी'

इन्होंने डीएएफसी-30 और डीएएफसी-50 के समकक्ष एक पर्यावरण-हितैषी एंटीफ्रिज़ फार्म्यूलेशन सफलतापूर्वक विकसित किया है।

एडमिन और एलायड हेतु प्रयोगशाला स्तरीय अवार्ड 10,000/-रूपये (प्रत्येक)
1.   श्री शिव सिंह, वीओ 'बी'

2.   श्री विजय कुमार, वीओ 'बी'
.
.
.
.
Top