संपर्क

दृष्टि

छलावरण (कैमफ्लाज), मरुस्थल विज्ञान एवं परमाणु विकिरण प्रबंधन प्रौद्योगिकी में उत्कृष्टता का एक केंद्र बनना।

उद्देश्य

बहु वर्णक्रमीय छलावरण (कैमफ्लाज) और कम दर्शिता युक्त प्रौद्योगिकियों के क्षेत्रों में उत्कृष्टता और आत्म निर्भरता प्राप्त करने के लिए, मरुस्थल संबंधित समस्याओं का समाधान उपलब्ध कराना, और परमाणु विकिरण सेंसर प्रौद्योगिकी और रेडियो समस्थानिक (रेडियोआइसोटोप्स) के अनुप्रयोगों का विकास।

रक्षा प्रयोगशाला जोधपुर (डीएलजे) को मरुस्थल में पर्यावरणीय स्थिति से संबंधित समस्याओं और रेगिस्तानी युद्धों पर उनके प्रभाव से संबंधित समस्याओं से निपटने के लिए मई 1959 में स्थापित किया गया था। प्रयोगशाला के लिए आवंटित प्रारंभिक चार्टर था: "शुष्क क्षेत्र में लागू अनुसार बुनियादी अनुसंधान आयोजित करने, भौतिकी अध्ययन, रेडियो तरंग प्रसार अध्ययन और सौर ऊर्जा के अलावा उन हथियारों और उपकरणों पर क्षेत्र परीक्षण करना जो नए डिजाइन के हों या देश में विकसित किए गए हों या आयातित जानकारी के साथ स्वदेश में उत्पादित किए जा रहे हों"

.
.
.
.
Top