संपर्क
DRDO
मुख्य पृष्ठ > डी आई पी आर > नया है

नया है

डीआरडीओ परामर्श केंद्र

डीआरडीओ संसर्ग की मनोवि‍ज्ञान भलाई को उन्‍नत बनाने के लि‍ए और व्‍यक्ति‍गत, पारि‍वारि‍क एवं व्‍यवसायजन्‍य क्षेत्र में उनके पूर्ण सामर्थ्‍य को प्राप्त करने में उनकी मदद करने के लि‍ए, डीआईपीआर ने हाल ही में संस्‍थान के परि‍सर में एक परामर्श केंद्र का आरंभ कि‍या है। इस प्रकार के केंद्र का नि‍र्माण करने की आवश्‍यकता को डीआईपीआर के वैज्ञानि‍कों द्वारा तब महसूस कि‍या गया था जब उन्‍होंने कार्यस्‍थान पर और घर पर तनाव के कारण डीआरडीओ के कर्मचारि‍यों को समस्‍याओं से जूझता हुआ पाने की स्‍थि‍ति‍ को डीआरडीओ के एक मेजबान द्वारा जाना। डीआरडीओ परामर्श केंद्र का उद्घाटन 20 अक्‍टूबर, 2011 को सीसी आरएंडडी एमएसएम एंड एच, डॉ. जे. नारायण दास द्वारा वि‍धि‍वत् रूप से कि‍या गया था।

केंद्र का लक्ष्‍य

डीआरडीओ परामर्श केंद्र उन परामर्शक सेवाओं की वि‍स्‍तृत श्रृंखला को प्रदान करने हेतु प्रति‍बद्ध है, जो डीआरडीओ कर्मचारि‍यों की मनोवैज्ञानि‍क, संगठनात्‍मक, सामाजि‍क और वि‍कासात्‍मक आवश्‍यकताओं को संबोधि‍त करता है।

डीआरडीओ परामर्श केंद्र का नि‍र्देशन दर्शन

  • डीआरडीओ कर्मचारि‍यों के सामान्‍य कल्‍याण एवं उनके मानसि‍क स्‍वास्‍थ्‍य को बढ़ाने के लि‍ए प्रोत्‍साहन।
  • मानवबल की उत्‍पादकता को बढ़ाना और कार्य-तनाव को कम करना।
  • संगठनात्‍मक प्रभावकता को बढ़ाना और कार्य-जीवन के संतुलन को सुधारना।

केंद्र का आदेशपत्र

  • डीआरडीओ कर्मचारि‍यों और उनके पहले और दूसरे स्‍तर के संबंधि‍यों को परामर्श सेवाएं प्रदान करना।
  • उन चयनि‍त केस-अध्‍ययनों पर शोध संचालि‍त करना जो कर्मचारि‍यों और संगठन के लि‍ए महत्‍व रखते हो।
  • मॉड्यूल्‍स के प्रकार में व्‍यक्ति‍गत, पारि‍वारि‍क और व्‍यावसायि‍क मामलों पर सर्वि‍स पैकेज/स्‍व-सहायता कौशल प्रदान करना।

डीआरडीओ परामर्श केंद्र पर सेवाएं

यह केंद्र दो अनुभवी पेशेवर रूप से योग्‍य क्‍लि‍नि‍क्‍ल मनोवैज्ञानि‍कों द्वारा चलाया जाता है। व्‍यक्ति‍गत, सामाजि‍क, पारि‍वारि‍क और कार्य संबंधि‍त समस्‍याओं के लि‍ए परामर्शक सेवाएं प्रदान करवायी जाती हैं। शैक्षणि‍क कठि‍नाई प्राप्त करने वाले बच्‍चों, उन पर ध्‍यान देने में कमी और अति‍सक्रि‍यता, आचरण एवं व्‍यवहारजन्‍य समस्‍याओं वाले बच्‍चों के लि‍ए सेवाओं को वि‍स्‍तारि‍त कि‍या जाता है। यह केंद्र व्‍यक्ति‍त्‍व, आईक्‍यू, वि‍शेष अधि‍गम अक्षमता, न्‍यूरोसाइकोलॉजी आंकलन, योग्‍यता, तनाव, चिंता, वि‍षाद, सामाजि‍क कौशल और सामान्‍य कल्याण का मूल्‍यांकन करने के लि‍ए आधुनि‍क मनोवैज्ञानि‍क परीक्षणों के साथ सुसज्‍जि‍त है।

भविष्य की योजनाएं

मनोविज्ञान के विभिन्न प्रभाव क्षेत्रों में अधिक बोधगम्यता के साथ प्रोजेक्ट्स की जिम्मेदारी लेने के लिए, प्रयोगशालाओं के विकास के रूप में संरचनात्मक विकास के महत्वपूर्ण कार्य को शुरू किया जा रहा है जो निम्नवत हैः

  1. संज्ञानात्मक विज्ञान प्रयोगशाला
  2. रणनीतिक व्यवहार विश्लेषण
  3. उड़ान अनुरूपता प्रयोगशाला
.
.
.
.
Top