संपर्क
DRDO
मुख्य पृष्ठ > डी आई पी आर > सिविल क्षेत्रों हेतु प्रौद्योगिकियाँ

मुख्य उत्पाद:

  • कम्प्यूटरीकृत पायलट चयन प्रणाली (सीपीएसएस)
  • कम्प्यूटरीकृत पायलट चयन प्रणाली (सीपीएसएस) एक पूरी तरह से कम्प्यूटरीकृत पद्धति (बैटरी) है जिसमें पायलट के लिए आवश्यक क्षमताओं का आकलन करने के लिए अनिवार्य संज्ञानात्मक और साइकोमोटर परीक्षण शामिल हैं।

  • कुशल निशानेबाजों (शार्प शूटर) के चयन के लिए परीक्षण
  • कुशल निशानेबाजों के चयन के लिए परीक्षण में कम्प्यूटरीकृत संज्ञानात्मक और व्यक्तित्व परीक्षण शामिल हैं। जांच का यह स्तर कुशल निशानेबाजों की योग्यता पहचानने में मदद करता है।  अत्यधिक प्रतिस्पर्धी परिस्थितियों में उनकी प्रदर्शन क्षमता का पता लगाने के लिए उम्मीदवारों की जांच की जाती है।

  • वायु यातायात नियंत्रक आकलन प्रणाली
  • इस प्रणाली में वायु यातायात नियंत्रकों के कार्य के लिए आवश्यक संज्ञानात्मक और गैर-संज्ञानात्मक क्षमताओं का आकलन करने के लिए कंप्यूटरीकृत परीक्षण शामिल हैं। यह मूल्यांकन प्रणाली व्यापक संज्ञानात्मक कार्य विश्लेषण पर आधारित है। यह आइटम रिस्पांस थ्योरी पर आधारित है। इसमें छह कंप्यूटर अनुकूलित परीक्षण हैं

  • अन्य रैंकों के लिए ट्रेड आवंटन प्रणाली (ओआरटीएएस)
  • अन्य रैंकों के लिए व्यवसाय आवंटन प्रणाली (ओआरएटीएएस) में तेरह परीक्षण समूह शामिल होते हैं, जिसमें डीआईपीआर द्वारा विकसित मानकीकृत संज्ञानात्मक और साइकोमोटर परीक्षण शामिल हैं, जो सैनिक की संभावित योग्यता के अनुसार उनके कार्य आवंटन में सुविधा प्रदान करते हैं।

  • भारतीय तटरक्षक बल के अधिकारियों और नाविकों के लिए चयन प्रणाली
  • चार प्रणालियों (बैटरियां), दो अधिकारियो के लिए और दो नाविकों (जीडी) के लिए विकसित और मानकीकृत की गई हैं। ये प्रणालियाँ संज्ञानात्मक क्षमता के त्रि-स्तरीय मॉडल (कैरोल, 1993) पर आधारित है।

  • वेब आधारित सैन्य योग्यता परीक्षण
  • डीआईपीआर ने उम्मीदवारों के लिए एक ऑनलाइन स्व-मूल्यांकन उपकरण विकसित किया है, जो उन्हें सेवाओं में शामिल होने की अपनी क्षमता जानने में मदद कर सकता है। स्व-मूल्यांकन उपकरण में संज्ञानात्मक, स्वभाव और व्यक्तित्व तीन परीक्षण शामिल कर इसे विकसित किया गया था। इसे पूरी कर लेने के बाद उम्मीदवार को भारतीय सशस्त्र बलों में शामिल होने के बारे में तत्काल प्रतिक्रिया दी जाएगी।

  • मार्कोस की स्क्रीनिंग के लिए परीक्षण (टेस्ट)
  • मार्कोस की स्क्रीनिंग के लिए परीक्षण विकसित किया गया था। संयुक्त रूप से प्रशिक्षण से गुजरने वाले नाविकों और अधिकारियों, दोनों के समझ में आने योग्य बनाने के लिए, यह परीक्षण द्विभाषी प्रकृति का है। इसे बुनियादी पाठ्यक्रम पूरा करने वाले प्रशिक्षु भी समझ सकते हैं। यह परीक्षण विशेष रूप से इन प्रशिक्षुओं के लिए तैयार किया गया है, प्रारंभ करने वालों के लिए नहीं, क्योंकि वे उसमें मौजूद स्थितियों और विकल्पों को समझने में सक्षम नहीं भी हो सकते हैं।

  • संज्ञानात्मक क्षमताओं का विस्तृत समूह (बैटरी) (सीबीसीए)
  • व्यक्ति की क्षमता और संज्ञानात्मक कार्यों के स्तर को निर्धारित करने के लिए संज्ञानात्मक क्षमताओं (सीबीसीए) का व्यापक समूह विकसित किया गया था। केवल तर्क शक्ति के माप तक सीमित पहले की बुद्धिमत्ता परीक्षण के विपरीत सीबीसीए में अनुभूति के एक व्यापक परिदृश्य को मापा जाता है। सीबीसीए के संज्ञानात्मक प्रक्रियाओं के पीएएसएस मॉडल का एक मजबूत सैद्धांतिक, तंत्रिका विज्ञान और अनुभवजन्य आधार है। इस प्रणाली (बैटरी) में पंजीकरण, प्रसंस्करण और उच्चतर क्रम कार्य और नौ उप परीक्षण के तीन स्तर हैं।

  • अधिकारियों के रैंक से नीचे के कार्मिकों के चयन की प्रणाली (बैटरी)
  • डीआईपीआर द्वारा एक संज्ञानात्मक परीक्षण और व्यक्तित्व परीक्षण को मिलाकर पीबीओआर चयन प्रणाली (बैटरी) को विकसित और मानकीकृत किया गया है जो अधिकारियों से नीचे के रैंक के कर्मियों का कुशल और प्रभावी चयन सुनिश्चित करेगी।  कार्य विश्लेषण प्रश्नावली के माध्यम से कार्य के पहलुओं, व्यक्ति के पहलुओं और कार्य के संदर्भ में जानकारी एकत्र करने के लिए कार्य का विश्लेषण किया गया। इससे कुशल प्रदर्शन के लिए आवश्यक गुणों और मनोवैज्ञानिक गुणों (संज्ञानात्मक, व्यक्तित्व और सामाजिक) को पहचानने में मदद मिलेगी।

  • सेना चिकित्सा कोर ट्रेड आवंटन प्रणाली (एएमसी-टैब)
  • डीआईपीआर ने सेना के चिकित्सा कोर की सैनिक तकनीकी श्रेणी के लिए एक मनोवैज्ञानिक ट्रेड आवंटन प्रणाली विकसित और मानकीकृत की है।. एएमसी-टैब की पूरी तरह से कम्प्यूटरीकृत प्रणाली (जिसमें प्रशासन, स्कोरिंग और व्यापार आवंटन भी शामिल है) को डीआईपीआर में नौ क्षमताओं सहित विकसित किया गया है, जो सेना के चिकित्सा कोर में तकनीकी श्रेणी की भर्ती के लिए योग्यता के अनुसार ट्रेडों को आवंटित करने में उपयोगी होगी।

  • भारतीय वायु सेना में शामिल करने के लिए वायु सैनिको के एक मनोवैज्ञानिक परीक्षण का विकास
  • इस परीक्षा को व्यक्तित्व का आकलन करने के एक उपाय के रूप में तैयार किया गया है। इसमें 45 स्थितिजन्य मद हैं। प्रत्येक स्थिति में चार विकल्प होते हैं, जिनमें से एक का चयन करना पड़ता है, जो कि उनकी राय में सबसे अच्छा है। वर्तमान परीक्षण एक समूह के व्यक्तित्व का आकलन करने के लिए कागज-पेन्सिल टेस्ट है। यह परीक्षा द्विभाषी है, जिसमें प्रत्येक आइटम और उसके साथ प्रतिक्रियाएं हिंदी और अंग्रेजी दोनों में दिए गए हैं।

  • आईटीबीपी कार्मिकों के लिए मनोवैज्ञानिक जांच परीक्षा
  • यह परीक्षा व्यक्तित्व के गुणों के आधार पर एक व्यापक व्यक्तित्व प्रोफाइल प्रदान करती है, जो कमांडो के कार्यों के लिए अनिवार्य रूप से अपेक्षित हैं और इसे एनएसजी कमांडो के संपूर्ण कार्य विश्लेषण के आधार पर निर्धारित किया गया है। विकसित परीक्षण में उच्च विश्वसनीयता और मानदंड वैधता के संदर्भ में मजबूत साइकोमेट्रिक गुण शामिल हैं।

  • भारतीय नौसेना प्रवेश परीक्षा (आईएनईटी)
  • भारतीय नौसेना के कमीशन प्राप्त अधिकारियों के लिए प्री-स्क्रीनिंग उपकरण के रूप में इस्तेमाल किया जाने वाले परीक्षण को विकसित और मान्य किया गया है।

  • भारतीय तटरक्षक दल में अधिकारियों के चयन के लिए कम्प्यूटरीकृत संज्ञानात्मक प्रणाली (बैटरी):. 13 नवंबर, 2014 को अधिकारियों के चयन के लिए कम्प्यूटरीकृत संज्ञानात्मक प्रणाली मद, तट रक्षक चयन बोर्ड, नोएडा को सौंप दिया गया।
  •  

    प्रकाशित पुस्तकें

     

    आतंकवाद का जवाब मनोसामाजिक रणनीति प्रकाशन में

     

     

     


    आत्महत्या-संबंधी व्यवहार: जोखिमशुदा लोगों का निर्धारणसैज पब्लिकेशन, भारत.

     

     

    .
    .
    .
    .
    Top