संपर्क
DRDO
मुख्य पृष्ठ >डीआईबीईआर>संचालित किए गए कार्यक्रम

संचालित किए गए कार्यक्रम

  • “संस्थानिक जैवसुरक्षा समिति” पर छमाही बैठक, नए प्रस्तावों पर विचार और मंजूरी तथा पादप प्रजातियों जीनी परिचालन संबंधी अनुमोदित प्रस्तावों की प्रगति की समीक्षा के लिए।
  • “तुंगता दबाव के लिए जीन अभियांत्रिकी” पर 07.11.12.2008 की प्रभावी तिथि से सीईपी पाठ्यक्रम
  • डीआईबीईआर, डीआईएचएआर तथा डीआरएल की कारपोरेट समीक्षा बैठक दिनांक 11 एवं 12 जून, 2009 को डीआईबीईआर, मुख्यालय, हल्द्वानी में सम्पन्न हुई
  • डीआईबीईआर, मुख्यालय, हल्द्वानी में 14 और 15 अप्रैल, 2010 को एकीकृत अनुसंधान परिषद तथा आयुर्विज्ञान चिकित्सकों केी बैठक आयोजित की गई
  • “जटरोफा: ऊर्जा का एक नवीनेय स्रोत” पर 07.11.12.2009 की प्रभावी तिथि से सीईपी पाठ्यक्रम
  • “हिमालयी जैव-विविधता संरक्षण और इसका विवेकपूर्ण उपयोग” पर 06.10.12.2010 की प्रभावी तिथि से सीईपी पाठ्यक्रम
  • “माइक्रो ऐल्गी के माध्यम से द्वितीय पीढ़ी के जैवईंध्न की संभावनाएं” पर 06.10.12.2011 की प्रभावी तिथि से सीईपी पाठ्यक्रम
  • “अखाद्य संभरणभंडार के उपयोग से जैवईंधन उत्पादन में अधिगम” पर 3-7 दिसम्बर, 2012 तक डीआईबीईआर, हल्द्वानी में सीईपी पाठ्यक्रम
  • रानीखेत, जिला अल्मोंड़ा (उत्तराखंड) में 7-9 जून, 2012 तक “छठी विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी एक्सपो 2012” प्रदर्शनी आयोजित की गई
  • रामनगर, जिला नैनीताल (उत्तराखंड) में 4-6 अक्टूबर, 2012 तक “रामनगर वैज्ञानिक साक्षरता उत्सव” पर प्रदर्शनी आयोजित की गई
  • भीमताल (नैनीताल) (उत्तराखंड) में 6-8 जून, 2013 तक “सातवीं विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी एक्सपो 2013” प्रदर्शनी आयोजित की गई
  • श्रीनगर (पौड़ी गढ़वाल) में 18-20 दिसम्बर, 2013 तक “गढ़वाल विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मेला 2014” पर प्रदर्शनी आयोजित की गई
  • रेशिमबाग मैदान, नागपुर, महाराष्ट्र में 26-29 दिसम्बर, 2013 तक “एग्रोविजन” पर प्रदर्शनी आयोजित की गई
महानिदेशक पुनर्वास प्रशिक्षण कार्यक्रम

डीआईबीआर महानिदेशक, पुनर्वास, रक्षा मंत्रालय, आरके पुरम, नई दिल्ली द्वारा प्रायोजित सशस्त्र बलों के 3 स्कन्धों के जेसीओ‘ज तथा ओआर्‘स के लिए जीआरटीयू राईवाला में मोचनपूर्व प्रशिक्षण के तहत विविधीकृत कृषि पर दो अर्द्धवार्षिक पुनर्वास प्रशिक्षण कार्यक्रम संचालित करता है।

निम्न में सैनिकों के लिए नियमित डीआईबीईआर गतिविधियां -

9 (।) मा. ब्रि. गु्रप सी/ओ 56 एपीओ तथा 69 मा. ब्रि. सी/ओ 56 एपीओ

  • बेमौसम सब्जी की खेती तथा पुष्पकृषि हेतु जवानों को प्रशिक्षण
  • किचेन गार्डन तथा यूनिट गार्डन के लिए उच्च पैदावार वाले मौसमी पौधों तथा बीजों की आपूर्ति
  • बेमौसम सब्जी एवं विविधीकृत कृषि की संरक्षित खेती
  • हर्बल गार्डन का स्थापन तथा आरईटी प्रजातियों का संरक्षण
  • पर्यावरण संरक्षण के लिए जागरूकता कार्यक्रम
.
.
.
.
Top