संपर्क
DRDO
मुख्य पृष्ठ > डीएफआरएल > उपलब्धियाँ

उपलब्धियाँ

  • η-3 वसायुक्त प्रचुर एसिडयुक्त चिकन टिकिया हाइपोलिपिडेमिक के लिए और इसमें शीत अनुकूलन की विशेषताएं।
  • फ्रीज में खुश्क किया गया आम के जूस का पाउडर जिसमें निष्पादन बढ़ाने वाले तत्व मिलाए गए हैं जैसे अनार का छिलका।
  • सरसपरिला, अश्वगंधा, जो और अन्य घटकों से युक्त रेगिस्तानी क्षेत्र के लिए एक उच्च ऊर्जायुक्त टिकिया।
  • शरीर को गर्मी उपलब्ध कराने के लिए तिल, ब्रहमी, शंकापुष्पि आदि के साथ एक उच्च ऊर्जायुक्त टिकिया को भी विकसित किया गया था।
  • चावल और कार्बोहाइड्रेट पर आधारित एक आरटीई तैयार स्नेक क्रंच टिकिया।
  • फलों के जूस पॉउडर पर आधारित सख्त टिकिया को सुखाए गए जूस पाउडर अर्थात् आम, संतरा और अनानास तथा अन्य घटकों जैसे चीनी, पकाए गए चावल, ओट, स्किम दुग्ध पाउडर, किशमिश, काजू और हाइड्रोजनित वसा का प्रयोग करके विकसित किया गया है। इन टिकियाओं को ऊर्जा अनुपूरक के रुप में एल-कार्नाइटिन का प्रयोग करके उच्च ऊर्जा के लिए छोटी टिकियाओं में संशोधित किया गया।
  • बाजरा आधारित खमीरयुक्त उत्पाद जैसे भटूरा मिक्स और ढोकला मिक्स (आसानी से पचने वाला भोजन)
  • फाइबरयुक्त एमआरई बिसि बेले मात और शाक पुलाव को विकसित किया गया जो कि 25-30% तक अतिरिक्त पोषक फाइबर सत्व प्रदान करता है।
  • एक तत्काल तैयार चावल की खीर मिक्स जिसे ठंडे और गर्म पानी में 1 मिनट के भीतर बनाया जा सकता है।
  • गेंहू के आटे में कीट संक्रमण को समाप्त करने के लिए एक माइक्रोवेव प्रसंस्करण प्रक्रिया।
  • एसिटेलेटेड स्टार्च को सूप मिश्रण के लिए विकसित किया जिसको विभिन्न तापमानों और कम प्रतिगमन में स्थायित्व के साथ लेने का लाभ है।
  • तरकारी और दलिया आधारित चिवड़ा प्रकार के मिश्रण को करी सब्जी, कूटे हुए चावल, सोया के टुकड़ों और बंगाल चना दाल के साथ विकसित किया गया। यह आरटीई उत्पाद के रुप में खपत के लिए उपयोगी है और इसे शाकयुक्त हलवा बनाने के लिए तत्काल पानी में मिलाया जा सकता है।
  • कच्चे नारियल के पानी के विद्युतीय फील्ड प्रसंस्करण और तैयार गाजर और टमाटर के सूप को बनाया गया।
  • स्टार्च के साथ 'हरी' विधि का प्रयोग करके सूक्ष्म जैवीय रोधी सिल्वर अतिसूक्ष्म कणों को प्रसंस्कृत किया गया। इन अतिसूक्ष्म सामग्रियों को पानी के घोल में मिलाया गया और जिसे विभिन्न खाद्य पैकेजिंग प्रयोगों के लिए प्रयोग किया जा सकता है।
  • सेलुलेज का प्रयोग करके जैवीय सेलुलोज सूक्ष्म क्रिस्टलों को तैयार किया गया जिससे इसकी भौतिक- यांत्रिकीय और थर्मल विशेषताओं में सुधार हुआ है। इन सामग्रियों को बायोपोलीमरों की उत्कृष्ठ विशेषताओं को प्रदान करने के लिए पाया गया जिसे विभिन्न खाद्य पैकेजिंग प्रयोगों के लिए प्रयोग किया जा सकता है।
  • पोलीहाइड्रोक्सीबुट्रेट के सह-पोलीमर (जैव क्षय प्लास्टिक) को बैसिलस मायोसाइड्स की डीएफसी 1 के पृथक दाग के रुप में प्रयोग करके संयोजित किया गया है।
  • सोरलिया कोरीलिफोलिया सत्व को जिगर के लिए उपयोग और चूहों में अवसाद रोधी गुणों से युक्त पाया गया जब इसे मानक दवा फ्लुक्सोटीन से तुलना की गई।
  • एलोय वेरा के आंशिक रुप से शुद्ध किए गए सत्व को एसेटिक एसिड से हुए कोलन के अल्सर में और चूहों में एथानोल से हुए गैस्ट्रिक अल्सर में उपयोगी पाया गया। इन अध्ययनों के आधार पर अल्सररोधी एलोयवेरा आधारित फल प्रसाद।
  • टिनोस्पोरा कोरिडिफोलिया के तने (अम्रुथाबाली) को ऑक्सीडेंटरोधी और प्रज्वलनरोधी कार्य में महत्वपूर्ण पाया गया।
  • एकोरस कैलेमस (वच) के मेथैनोलिक सत्व में महत्वपूर्ण अवसाद रोधी गुण देखे गए हैं।
  • वी. पैरेहीमोलाइटिक्स के लिए एक नई प्रजाति विशिष्ट बाहरी मेम्ब्रेन प्रोटीन जीन की पहचान की गई और उसे वी पैरेहीमोलाइटिक्स की पहचान के लिए एक मोलेकुलर के रुप में सफलतापूर्वक प्रयोग में लाया गया।
  • विषाक्त जीन को लक्ष्य करने वाले एक मल्टिप्लेक्स पीसीआर औऱ महामारी सिरोवर्स के लिए विशिष्ट जीन और हमारे अपने नए पहचान किए गए विशिष्ट प्रजाति ओएमपी जीन को भोजन स्रोतों से जैव के सफलतापूर्वक प्रयोग किया गया।
  • एक नवीन डॉट एलीसा किट को विकसित किया गया और तीन विभिन्न चिकित्सा कॉलेजों में कोडयुक्त नमूनों के साथ उच्च परिणाम प्राप्त हुए तथा इसके साथ ही सैलमोनीला जीनस, शिगेला जीनस, ईकोली ग्रुप और इंटेरोबैक्टीरिएंस परिवार के महत्वपूर्ण सदस्य प्रोटियम एसपीपी की पहचान में भी उपयोगी पाया गया। इस किट को औपचारिक रुप से स्थापना दिवस 28/12/2010 को प्रयोगशाला में श्रेष्ठ वैज्ञानिक और सीसी (आरएंडडी, एमएसएंडएलआईसी) डा. के शेखर द्वारा शुरु किया गया।
  • लिस्टेरिया एसपीपी के विभेदन के लिए और साथ ही टॉक्सिकजेनिक लिस्टेरिया एसपीपी की पहचान के लिए एक नया मल्टीप्लेक्स पीसीआर विकसित किया गया।
  • एक अभिनव रणनीति अपनाकर, स्टैफाइलोकोकल इनटरोटॉक्सिन बी (एसईबी) और टॉक्सिक शॉक सिन्ड्रॉम टॉक्सिन (टीएसएसटी) के लिए विशिष्टता के साथ एक मल्टीडोमेन फ्यूजन प्रोटीन (आर-टीई) निर्मित किया गया था। जैव-युद्ध अणु, एसईबी और टीएसएसटी का पता लगाने के लिए इम्यूनोअसे में इस आर-टीई के विरुद्ध उत्पादित विशिष्ट पोलीक्लोनल और मोनोक्लोनल एन्टीबडिज का उपयोग किया गया।
  • ईए-1 जीन के सी-टर्मिनल रिजन से प्राप्त रिकम्बिनेन्ट प्रोटीन के विरुद्ध मोनोक्लोनल एंटीबोडीज़ का प्रयोग करते हुए बी. एन्थ्रैक्स की विशिष्ट पहचान के लिए एक उन्नत इम्यूनो आधारित पहचान प्रणाली को उभारा गया।
  • काफी कम लागत पर तेजी से विशिष्ट उच्च सादृश्य मोनोक्लोनल एंटीबोडीज़ उत्पन्न करने के लिए हाइब्रीडोमा तकनीक में एक सफलता। यह सफलता, जैवरक्षा/जैवआतंकवाद एजेंट और खाद्य सुरक्षा चिंता सहित विषाक्त पदार्थ का पता लगाने के लिए बड़ी संख्या में उत्पादों के विकास को जन्म दे सकता है।
  • सीबकथोर्न, रोडियोला और ऐलो वेरा पर आधारित 20 से ज्यादा स्वास्थ्य खाद्य पदार्थों का विकास।
  • पशु आहार में कुछ आम पशु चिकित्सा दवाओं की पहचान और मात्रा पता करने से संबंधित पद्धतियों का विकास।
  • कुछ पशु चिकित्सा दवाओं के अवशेषों को विसंक्रमित करने के लिए तापीय और गैर-तापीय तकनीक।
  • अत्याधिक विनाशशील ऐलो जेल का स्थिरिकरण।
  • ऐलो जेल को फ्रीज करना और उनका स्प्रे ड्राइंग।
  • विविध फल, सब्जी औषधीय पौधों और मसालों का एन्टीऑक्सीडेंट पोटेन्शियल।
  • निर्जलीकृत गाजर, गोभी, शहजन पत्ते, एमारैंथ पत्ते, करी पत्ता, आम फल बार, टमाटर प्यूरी, सीबकथोर्न, हर्बल चाय, लहसून और लहसून तेल, मधुमक्खी मोम, पोलीफिनॉल और पोमेग्रैनेट का अर्क, सेब, धनिया और आजवायन बीज, कासनी पत्ता और डिकैल्पीस पर हाइपरकोलेस्टेरेमिया/ ऑक्सीडेटीव तनाव/मधूमेह/डीएनए क्षति/ एलडीएल ऑक्सीडेशन का अध्ययन।
  • डाई-(2-इथाइल हेक्सील) फ्थैलेट, नमकयुक्त मछली, ऐलो वेरा जेल, सोरैलिय कोरीलीफोलिया और कासनी पत्तों के विषाक्तता पर अध्ययन।
  • पोल्ट्री मीट में बासीपन को समाप्त करने के लिए हर्बल संयोजन और उसके तैयारी की प्रक्रिया।
  • चूहों में हेमाटोलॉजिकल पैरामीटर पर हेमाटोपोरफाईरिन संजात का प्रभाव।
  • रेगिस्तान में पीने के पानी के लिए प्राकृतिक रबर आधारित लचीला मानव पैक पात्र।
  • पीने के पानी को लंबे समय तक भंडारित रखने के लिए डाई-(2-इथाईल हेक्साइल) फ्थैलेट प्लास्टिसाइज्ड पीवीसी बैग।
  • बकरे के मांसपेशियों का मरणोत्तर भंडारण के दौरान काल्पेन-काल्पैस्टैटीन और कैथेप्सिन में बदलाव।
  • बकरे और पोल्ट्री मीट में मरणोत्तर बुढ़ापे के दौरान जैव रासायनिक और भौतिक-रासायनिक बदलाव।
  • जड़ी-बूटियों के थकान, चिंता और अवसाद रोधी गुण।
  • कोल्ड शॉक निर्जलीकरण तकनीक
  • ताजा नमक रखे
  • एन्टीमायकोटीक प्रभाव
  • पौष्टीक उर्जा समृद्ध फुड बार
  • शोधित प्रसंस्कृत चपाती
  • सोया समृद्ध खाद्य उत्पाद
  • आपातकाल सर्वाइवल राशन
  • मीट ठठरी के सेल्फ लाइफ को बढ़ाने के लिए प्राकृतिक अर्क
  • नए प्राकृतिक एन्टीऑक्सीडेन्ट्स के एन्टीऑक्सीडेन्ट क्षमता को स्थापित किया जा चुका है और विविध प्रसंस्करण तकनीक के संदर्भ में मीट एवं पोल्ट्री उत्पादों में सफलतापूर्वक लागू किया जा चुका है।
  • लिपिड ऑक्सीडेटीन प्रोफाइल के मूल्यांकन के लिए विविध रासायनिक चिह्न लागने वाला।
  • खाद्य गुणवत्ता मापदंडों के मूल्यांकन के लिए क्रोमैटोग्रैफिक पद्धति।
  • फ्रीज ड्रायड और द्रवीकृत बेड ड्रायड मीट और पोल्ट्री उत्पादों को विस्तारित सेल्फ लाइफ के साथ विकसित किया।
  • भुने पोल्ट्री उत्पादों के विकास के लिए फ्राइंग अवस्थाओं का अधिकतम उपयोग किया गया।
  • माइक्रोबायल गुणवत्ता को प्राप्त करने, ठंढ़ा और जिंदा बलि किया गया मीट और ई.कोलाइ का पता करने के लिए विविध मीट परीक्षण किट्स।
  • फ्रीज ड्राइंग तकनीक द्वारा कार्यात्मक सहायता के साथ विभिन्न शाकाहारी और मांसाहारी उत्पाद।
  • विविध फ्रोजन आरटीसी/आरटीई मीट/पोल्ट्री/ मछली उत्पादों को विकसित किया।
  • स्थिर और घुलनशील एन्जाइम तैयारी का प्रयोग कर लैक्टोज हाइड्रोलाइसिस के लिए बीटा-गैलेक्टोसिडेज विकसित किया।
  • आहार रेशा और बायोमेटेरियल के रुप में इस्तेमाल के लिए बैक्टीरियल सेलुलोज उत्पादन की प्रौद्योगिकी का विकास किया।
  • अर्द्ध विशुद्ध प्रारुप में बैक्टीरिया रोधी और फंगस रोधी बैक्टीरियोसीन उत्पादन विकसित किया।
  • मेलानिन मुक्त पुलुआन उत्पाद विकसित किया।
  • सब्जियों के लिए सतत उबालने की प्रणाली
  • लैक्टोज हाइड्रोलिसिस के लिए बायोरिएक्टर
  • पैर संचालित चपाती बनाने की मशीन
  • पैथोजेन पता लगाने के लिए आण्विक पद्धति:
    • पैथोजेन स्टेफाइलोकोकस ऑरियस की जांच के लिए अभिनव मल्टीप्लेक्स पीसीआर।
    • मल्टीप्लेक्स पीसीआर द्वारा एरोमोनस एसपीपी की टॉक्सिजेनिक स्टेन का पता लगाना।
    • एकल पीसीआर फॉर्मेट पर यरसिनिया इनटरोकोलिटिका, स्टेफाइलोकोकस ऑरियस और स्लामोनेला की एक साथ जांच।
    • समुद्री खाद्य पदार्थों में एक अभिनव मल्टीप्लेक्स पीसीआर द्वारा विब्रियो पाराहेमोलाइटीकस का पता लगाना।
    • लिस्टेरिया मोनोसाइटोजीन का पता लगाने के लिए एक अभिनव मल्टीप्लेक्स पीसीआर।
    • अनाजों में माइकोटोक्सिजेनिक फ्युसारियम एसपीपी पता करने के लिए एक अभिनव मल्टीप्लेक्स पीसीआर आधारित योजना।
  • कीमेरिक जीन और उनमें कीमेरिक रिकंबिनेंट प्रोटीन की रचना :
    • बैसिलस सेरियस से हेमोलाइसिन बीएल का नॉन टॉक्सिक कीमेरिक प्रोटीन(L1L2B) का निर्माण और एचबीएल टॉक्सिन का पता लगाने में इसके अनुप्रयोग।
    • बैसिलस सेरियस के हेमोलाइसिन बीएल, लिस्टेरिया मोनोसाइटोजींस के लिस्टरियोलाइसिन ओ और स्टैफाइलोकोकस औरियस के इनटरोटॉक्सिन बी के एक साथ अभिव्यक्ति के लिए एक रिकम्बिनेंट इन्टरजिनस मल्टीडोमेन कीमेरिक प्रोटीन का निर्माण।
    • एक कीमेरिक प्रोटीन का निर्माण जो विषाक्त शॉक सिन्ड्रॉम टॉक्सिन और एस. औरियस के इनटरोटॉक्सिन बी का बना है और इसकी अभिव्यक्ति और शुद्धिकरण
    • लिस्टेरिया मोनोसाइटोजीन्स के लिस्टरियोलाइसिन ओ और इनटर्नालिन ए से बने एक कीमेरिक प्रोटीन का निर्माण।
    • एक कीमेरिक रिकंबिनेंट प्रोटीन का निर्माण जिसमें विषाक्त शॉक सिन्ड्रॉम टॉक्सिन और एस. औरियस के इनटरोटॉक्सिन ए के एन्टीजेनिक गुण हैं।
  • खाद्य पैथोजन का पता लगाने के लिए इम्यूनोअसे किट्स:
    • एस औरियस के टीएसएसटी और एसईबी टॉक्सिन का पता लगाने के लिए वेस्टर्न ब्लॉट जांच किट
    • सालमोनेला एसपीपी., शिगेला एसपीपी., ई.कोलाइ समूह और प्रोटियस एसपीपी. पहचान किट।
    • ओक्रैटॉक्सिन का पता लगाने के लिए सैंडविच डॉट एलिसा किट
    • बैसिलस ऐंथ्रैसिस का पता लगाने के लिए मोनोक्लोनल एन्टीबडी एलिसा किट।
  • 2010-2011 के लिए हाल का खाद्य आपूर्ति
    • 16 बेस मरम्मत डिपो, वायु सेना, पालम, नई दिल्ली को 1000 की संख्या में आपातकालिन फ्लाइंग राशन।
    • 16 बेस मरम्मत डिपो, वायु सेना, पालम, नई दिल्ली को 21000 की संख्या में पेयजल
    • मूल्यांकन/ परीक्षण उद्देश्य के लिए मुख्यालय एनएसजी, नई दिल्ली को 6 सर्वाइवल राशन ।
    • अर्धसैनिक बलों को 53814 की संख्या में मील रेडी-टू-इट (एमआरई) राशन।
    • आईटीबीपी को 13610 की संख्या में एमआरई राशन (शाकाहारी) और 5000 की संख्या में एमआरई राशन (गैर-शाकाहारी)।
    • सीआरपीएफ ट्रायल को इनर्जी कैप्सूल, फ्लैक्स मीठा मिश्रण, प्रत्येक 200 की संख्या में।
    • डीएमआरसी, जोधपुर को खाद्य अनुपूरण कार्यक्रम के लिए 2080 किग्रा का पर्ल मिलेट कुकिज।
    • सीआरपीएफ को एमआरई राशन 45061 की संख्या में, बीएसएफ को एमआरई राशन 2400 की संख्या में और एनएसजी को एमआरई राशन 737 की संख्या में।
    • XXX अंटार्कटिका अभियान के लिए प्रसंस्कृत खाद्य वस्तुओं का 883 किग्रा।
    • बाढ़ प्रभावित लोगों के लिए लेह को आगे भेजने के लिए एसएएसई, चंडिगढ़ को 2.8 टन के प्रसंस्कृत खाद्य राहत पदार्थ।
    • अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक, हैदराबाद को 25 किग्रा की प्रसंस्कृत खाद्य वस्तुएं।
    • विविध थल सेना इकाईयों को प्रसंस्कृत खाद्य के लिए 108 की संख्या में तेज जांच किट और 147 मीट जांच किट।
    • थल सेना इकाईयों को जांच सूचक घोल के दो बोतल।
    • परीक्षण उद्देश्य के लिए 22 सिक्ख सी/ओ 56 एपीओ को 210 किग्रा का ऐपेटाइजर; 15 एमएएचएआर सी/ओ 99 एपीओ को 100 किग्रा का ऐपेटाइजर; 16 आरएजे आरआईएफ(राजस्थान राइफल्स) सी/ओ 99 एपीओ को 100 किग्रा का ऐपेटाइजर और 26 पंजाब सी/ओ 99 एपीओ को 100 किग्रा का ऐपेटाइजर।
    • 208 कोबरा बीएन, सीआरपीएफ, इलाहाबाद (यू.पी.) को 125 एमआरई राशन।
    • सीसीई (आरएंडडी) केन्द्रीय, नई दिल्ली (पीएम कार्यालय) को 115 किग्रा का प्रसंस्कृत खाद्य वस्तु।
    • 203 कोबरा, सीआरपीएफ, धनबाद को 500 एमआरई राशन।
    • सीआरपीएफ को चिकन बार (25 किग्रा) और उच्च उर्जा बार प्रत्येक की 200 संख्या।
    • डीआईपीएएस, दिल्ली को उपयोगकर्ता स्वीकार्यता परीक्षण के लिए न्यूट्रास्यूटिकल, टाइरोसिन और प्लैसेबो बार , प्रत्येक की 100 संख्या।
    • दिसम्बर 2010 के दौरान चुकंदर के रस का पर्यनुकूलन पर प्रभाव देखने के लिए संचालित परीक्षण के लिए डीआईपीएएस को रेडी-टू-ड्रिंक चुकंदर रस आपूर्ति किया गया।
    • मैंगो बार (200), इन्सटैंट नारियल चटनी (50 ग्रा x 40) और हरी चटनी (50 ग्रा x 40) को हैराबाद, आंध्र प्रदेश में नक्सल गतिविधियों से लड़ रहे पुलिस विभाग को परीक्षण के लिए भेजा गया।
 
.
.
.
.
Top