संपर्क
DRDO
मुख्य पृष्ठ >डीबेल> कार्यक्षेत्र

कार्य के क्षेत्र

इसके कार्य के क्षेत्रों में निम्नलिखित शामिल हैं (लेकिन इन तक ही सीमित नहीं है):

  • एयरो मेडिकल इंजीनियरिंग
    1. वायु सेना के जवानों के लिए एकीकृत जीवन सहायक प्रणाली
    2. हेलीकाप्टर ऑक्सीजन प्रणाली
    3. कंबैट फ्री फाल ऑक्सीजन प्रणाली (ऑक्सीजन गिरने की असैनिक प्रणाली)
    4. कम वजन की एकीकृत हेलमेट-सामान्य हेलमेट – विमान कर्मियों के लिए मास्क
    5. हड्डी प्रवाहकत्त्व हेडसेट(बोन कंडक्शन हेडसेट)
    6. थल सेना के सैनिकों का संचार हेलमेट (जीटीसीएच)
  • जैवचिकित्सीय अभियांत्रिकी
    1. पोर्टेबल टेलीमेडिसिन सिस्टम
    2. पोर्टेबल हैंडहेल्ड महत्वपूर्ण पैरामीटर मॉनिटर
  • एनबीसी संरक्षण
    1. एनबीसी श्वसन मास्क
    2. एनबीसी सिंगल आउटलेट रिसस्क्युरेटर (वायवीय और इलेक्ट्रॉनिक)
    3. एनबीसी मल्टी आउटलेट रिसस्क्युरेटर
    4. एनबीसी इंटीग्रेटेड हुड मास्क
    5. मैनुअल रिसस्क्युरेटर
  • सुरक्षा उपकरण और उड़ान के वस्त्र
    1. अग्निरोधी पोशाक
    2. अग्निरोधी विमान कर्मी जीवन रक्षा जैकेट
    3. अग्निरोधी एंटी जी सूट
    4. अग्निरोधी स्वतः फुलने वाली लाइफ जैकेट
    5. अग्निरोधी दस्ताने
    6. एडवांस्ड माइक्रो क्लाइमेटिक कंडीशनिंग सिस्टम (उन्नत सूक्ष्म जलवायु वातानुकूलन प्रणाली)
    7. शीत कालीन वस्त्र, जैसेः:
    8.  
      1. सक्रिय ताप तत्वों सहित विद्युतीय गरम दस्ताने
      2. गरम जूता इनसोल
      3. उन्नत शीतकालीन सूट और थर्मल वियर
    9. एक व्यक्ति एचएपीओ चैंबर
  • पानी के नीचे की प्रणालियां, अर्थात्
    1. पनडुब्बी बचाव सेट
  • उपरोक्त मदों का परीक्षण करने के लिए कई परीक्षण सुविधाएं
  • मुख्य सक्षमता

    1. भारतीय सशस्त्र बलों के लिए जीवन रक्षा प्रणाली का डिजाइन, विकास और मूल्यांकन
    2. जैवचिकित्सीय इंस्ट्रूमेंटेशन और उपकरणों का विकास

    कर्तव्यों का घोषणापत्र

    प्रयोगशाला को निम्नलिखित व्यापक दिशानिर्देशों के आधार पर जैव अभियांत्रिकी और विद्युत चिकित्सीय उपकरण के क्षेत्र में अनुसंधान और विकास कार्य करने के लिए स्थापित किया गया है: -

    1. सेवा की आवश्यकताओं के अनुसार डिजाइन और विकास कार्य का संचालन और प्रोटोटाइप उपकरणों की उपलब्धता सुनिश्चित करना
    2. विश्वसनीय प्रोटोटाइप उपकरण के निर्माण और बाद में उत्पादन में उद्योगों को शिक्षित और सहायता करना
    3. सेवाओं के लिए विकसित उपकरणों के संबंध में विवरण और रखरखाव निर्देश निर्धारित करना
    4. प्रयोगशाला की विशेषज्ञता के क्षेत्र में आवश्यकतानुसार सेवा करने के लिए इस तरह की अन्य तकनीकी सलाह प्रस्तुत करना और प्रशिक्षण पाठ्यक्रम आयोजित करना
.
.
.
.
Top