संपर्क
DRDO

निदेशक की प्रोफाइल

डॉ.विजया सिंह, ओएस एवं वैज्ञानिक 'एच' को 'कार्मिक प्रतिभा प्रबंधन केंद्र' (सेप्टाम) के निदेशक के रूप में 11 सितंबर, 2015 से नियुक्त किया गया है।

धातु विज्ञान वैज्ञानिक होने की वजह से उन्होंने तीन दशकों से अधिक समय तक रक्षा धातुकर्म अनुसंधान प्रयोगशाला (डीएमआरएल), हैदराबाद में काम किया। डीएमआरएल में अपने कार्यकाल के दौरान, उन्होंने डीआरडीओ, इसरो, ऑफ इत्यादि के लिए विभिन्न एल्युमिनियम और मैग्नेशियम मिश्र धातु के घटकों के विकास के लिए जिम्मेदार टीमों जिनमें महत्वपूर्ण पृथ्वी मिसाइल हेतु विंग बे कास्टिंग और टारपीडो कार्यक्रम के लिए शैल-W का नेतृत्व किया। उन्होंने रक्षा और एयरोस्पेस के लिए एल्यूमीनियम-लिथियम मिश्र के विकास पर बड़े पैमाने पर काम किया है और प्रौद्योगिकी संस्थान बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (आईटी, बीएचयू), वाराणसी (यूपी) से इस क्षेत्र में डॉक्टरेट की डिग्री प्राप्त की है। उनके पास 58 पत्रिकाओं (राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय) के प्रकाशन,  सम्मेलन की कार्यवाही और सहकर्मी की समीक्षा तकनीकी रिपोर्ट के रूप में है। वे बटरवर्थ-हेनिमैन द्वारा प्रकाशित "एल्युमिनियम-लिथियम अलॉयस, प्रथम संस्करण, प्रोसेसिंग, गुण और अनुप्रयोग" नामक पुस्तक और स्प्रिंगर द्वारा प्रकाशित "एयरपोर्ट सामग्री एवं सामग्री प्रौद्योगिकी में मैग्नीशियम अलॉयस: संस्करण -1: एयरोस्पेस सामग्री" नामक पुस्तक में दो अध्यायों के सह-लेखक भी हैं।
उन्हें इंटरनेशनल कमिटी ऑफ फाउंड्री टेक्निकल एसोसिएशन (आईएटीएफ) के एक सहयोगी सदस्य, इंस्टीट्यूट ऑफ इंडियन फाउंड्रीमनैन (आईआईएफ) से वर्ष 1993 में "फाउंड्रीमिन ऑफ द ईयर अवार्ड" प्राप्त हुआ। उन्होंने वर्ष के प्रयोगशाला वैज्ञानिक पुरस्कार 2013 प्राप्त किया। वर्ष 2007 में उन्होंने एपी स्टेट काउंसिल ऑफ साइंस एंड टैक्नोलॉजी द्वारा आंध्र प्रदेश वैज्ञानिक पुरस्कार प्राप्त किया। वे आईआईएम, एमआरएसआई और बीआईएस जैसे पेशेवर निकायों के सदस्य हैं।

.
.
.
.
Top