संपर्क
DRDO
मुख्य पृष्ठ > केअर > ऐतिहासिक पृष्ठभूमि

ऐतिहासिक पृष्ठभूमि

कृत्रिम आसूचना और रोबोटिक केन्द्र (सेंटर फॉर आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस एंड रोबोटिक्स) अक्टूबर, 1986 में स्थापित किया गया था। प्रारंभतः इसका अनुसंधान कृत्रिम आसूचना (एआई), रोबोटिक विज्ञान और नियंत्रण प्रणालियों पर केंद्रित था। नवम्बर, 2000 में, कमान नियंत्रण संचार तथा आसूचना (सी3आई) प्रणालियों, संचार और नेटवर्किंग और संचार गोपनीयता के क्षेत्र में कार्यरत इलेक्ट्रॉनिकी तथा रेडार विकास प्रतिष्ठान (एलआरडीई) के अनुसंधान एवं विकास समूहों का विलय सीएआईआर में कर दिया गया। इसके साथ ही, सीएआईआर रक्षा विभाग के लिए समाधानों हेतु सूचना और संचार प्रौद्योगिकी (आईसीटी) के भिन्न क्षेत्रों में अनुसंधान एवं विकास के लिए डीआरडीओ की अग्रणी प्रणाली प्रयोगशाला बन गई। सीएआईआर भारत सरकार के अन्य विभागों से प्रयोक्ताओं की मांग की भी पूर्ति करती है। आईआईएससी, आईआईटी‘ज इत्यादि जैसे सुप्रसिद्ध शिक्षण संस्थानों को प्रौद्योगिकी क्षेत्रों में अनुसंधान करने हेतु प्रयोगशाला के हितार्थ सहयोगी बनाया गया है।

सीएआईआर, जो 2006 तक बेंगलुरू स्थित विभिन्न परिसरों से प्रचालनरत थी, अब 15 एकड़ के एकल हरे-भरे आधुनिक परिसर में अवस्थित है। चार प्रमुख भवनों नामतः प्रशासनिक ब्लॉक, सुरक्षित प्रणाली ब्लॉक, प्रौद्योगिकी ब्लॉक और प्रणाली ब्लॉक में तकनीकी और प्रशासनिक गतिविधियां संचालित की जाती हैं। आज, सीएआईआर को अपने 300 से अधिक कार्मिकों पर गर्व है, जिनमें 150 से अधिक सुयोग्य वैज्ञानिक हैं।

सीएआईआर का नेतृत्व इसकी स्थापना के समय से निम्नलिखित निदेशकों द्वारा किया गया हैः

नाम

अवधि

कमोडोर (आई एन) ए पॉलराज

17 अक्तूबर 1986 -   27 जून  1988

श्री एस राजेन्द्रन

27 जून 1988     -   26 जून  1989

डॉ एम विद्यासागर

26 जून 1989     -   28 मार्च 2000

श्री एन सीताराम

28 मार्च 2000   -   21 नवंबर 2006

श्री महालिंगम् वी एस

22 नवंबर 2006  -   आज तक

सीएआईआर की दृष्टि और मिशन

सीएआईआर का स्वप्न सूचना प्रौद्योगिकियों में उत्कृष्टता के पोषण द्वारा अग्रगत सुरक्षित संचार, सूचना तथा आसूचना प्रणालियों के विकास के माध्यम के हमारी रक्षा सेवाओं को प्रौद्योगिकीय वर्चस्व उपलब्ध कराना है।
सीएआईआर का मिशन शैक्षणिक संस्थाओं तथा उद्योग के साथ मिलकर अन्योन्यक्रिया के माध्यम से उच्च गुणवत्ता की सुरक्षित संचार, कमान और नियंत्रण तथा आसूचना प्रणालियों का अभिकल्प, विकास और उत्पादन करना है।
सीएआईआर वर्ष 2008 से एक आईएसओ 9001: 2008 प्रमाणित प्रयोगशाला है।
इसकी गुणवत्ता नीति के अनुसार, सीएआईआर प्रणालियों, समाधानों और सेवाओं के अनुसंधान, विकास तथा प्रदायगी हेतु प्रतिबद्ध है, जो सामरिक संचार, संचार सुरक्षा, नेट केंद्रित युद्धसामग्री, सूचना सुरक्षा, कृत्रिम आसूचना तथा रोबोटिक विज्ञान के क्षेत्रों में ग्राहकों को पूर्ण संतुष्टि प्रदान करती हैं। सीएआईआर इसे गुणवत्ता प्रबंधन प्रणाली के प्रभावशाली कार्यान्वयन, प्रौद्योगिकियों के सतत सुधार, कार्मिक कौशल वृद्धि, उद्योग तथा शैक्षिक संस्थाओं के साथ सहयोग और अवसंरचना के कोटिवर्धन के माध्यम से अर्जित करने का इरादा रखती है।

सीएआईआर के गुणवत्ता उद्देश्य हैं -

  • परियोजनाएं योजनाबद्ध समय और लागत पर पूरी करना
  • उत्पाद की सम्पूर्ण विकास प्रक्रिया में ग्राहक की सहभागिता सुनिश्चित करना
  • संबद्ध प्रौद्योगिकियों का अनुसंधान और विकास
  • प्रणाली विकास हेतु अंतः-गृह विकसित प्रौद्योगिकियों का एकीकरण
  • उपलब्ध प्रौद्योगिकियों, सीओटीएस तथा मुक्त स्रोत समाधानों का उत्पादों के विकास हेतु उत्तोलन
  • बृहद प्रणाली एकीकरण में सक्षमता का पोषण करना
  • उद्योग के साथ सहक्रियात्मक भागीदारी विकसित करना
  • शैक्षिक संस्थाओं तथा अनुसंधान प्रयोगशालाओं के साथ सहयोग करना
  • मानव संसाधनों के सशक्तीकरण द्वारा आविष्करण को प्रोत्साहित करना
  • सतत प्रशिक्षण के माध्यम से कार्मिकों के कौशल तथा सक्षमता का सुधार
  • ग्राहकों को तकनीकी परामर्श उपलब्ध कराना
.
.
.
.
Top