संपर्क
DRDO
मुख्य पृष्ठ >  कैब्स  > कार्यक्षेत्र

भारतीय एईडब्ल्यू एवं सी प्रणाली

स्वदेशी विमानस्थ प्रारंभिक चेतावनी एवं नियंत्रण (एईडब्ल्यू एवं सी) भारतीय वायुसेना के लिए एक ठोस अत्याधुनिक हवाई निगरानी प्रणाली विकसित करने का प्रयास है, यह डीआरडीओ का सीएबीएस (बंगलौर) के साथ एक केंद्रीय एजेंसी के रूप में रक्षा तैयारियों में महत्वपूर्ण योगदान देने के लिए कार्यक्रम की अगुआई का एक प्रतीक है। स्वदेशी एईडब्ल्यू एवं सी एक कार्यकारी जेट विमान पर हवाई निगरानी के सभी पहलुओं को उपलब्ध कराने की एक बहु - संवेदक प्रणाली है।

indian1.jpg

क्षमता, परिचालन भूमिका एवं कार्यात्मक आवश्यकताएं:

भारतीय एईडब्ल्यू एवं सी प्रणाली निगरानी क्षेत्र में मौजूद खतरों का पता लगाएगी, पहचान करेगी और उन्हें वर्गीकृत करेगी तथा एक कमान और नियंत्रण केंद्र की तरह एडब्ल्यूएसीएस जैसे वायु रक्षा अभियानों के समर्थन केंद्र के रूप में कार्य करेगी। यह प्रणाली अपने कई संचार और डेटा लिंक के साथ खतरों के खिलाफ चेतावनी दे सकती है और लड़ाकुओं को निर्देशित कर सकती है साथ ही रणनीतिक रूप से स्थापित (ग्राउंड एक्सप्लॉयटेशन स्टेशनों) जमीनी दोहन स्टेशनों (जीईएस), पर कमांडरों को 'पहचानने योग्य हवाई निगरानी तस्वीर' (आरएएसपी) प्रदान करती है। इस प्रकार एईडब्ल्यू एवं सी प्रणाली आक्रामक हमला मिशनों में वायु सेना का समर्थन और सामरिक युद्ध क्षेत्र में बलों की सहायता कर सकती है। इसके अलावा, प्रणाली के इलेक्ट्रॉनिक और संचार समर्थन उपाय रडार प्रसारण और संचार संकेतों को अवरोधित कर सकते हैं और उनसे ईएलआईएनटी/ सीओएमआईएनटी इकट्ठा कर सकते हैं। एईडब्ल्यू एवं सी एक बहु-सेंसर निगरानी प्रणाली है जो भारतीय वायुसेना द्वारा परिभाषित निम्न परिचालन भूमिकाओं को निभा सकती है:
indian2.jpg

भारतीय वायुसेना द्वारा परिकल्पित कार्यात्मक अपेक्षाएं:

indian3.jpg


indian4.jpg

मंच: ब्राजील ईएमबी-145 को एईडब्ल्यू एवं सी प्रणाली के लिए आधार विमान के रूप में चुना गया है। इस भूमिका के लिए संशोधित विमान में विद्युत रडार प्रणालियों को ऊर्जित करने के लिए एक अतिरिक्त सहायक ऊर्जा इकाई होगी। पांच संचालक कार्य स्टेशनों, मिशन प्रणाली इलेक्ट्रॉनिक्स रखने के लिए चार रैकों, हवाई जहाज़ के अतिरिक्त ढांचा ईंधन टैंक और पांच बाकी चालक दल की सीटों के लिए जगह बनाने के लिए विमान के केबिन को फिर से विन्यासित किया जा रहा है। विस्तारित निगरानी कार्यवाहियों को सुविधाजनक बनाने के लिए मंच विमान में उड़ान के दौरान ईंधन भरने की एक प्रणाली भी स्थापित की गई है। स्वदेशी प्रणाली, जिसे ईएमबी-145 एईडब्ल्यू एवं सी I, के नाम से संबोधित किया जाएगा, उड़ान की ऊंचाई पर चढ़ाई करने में सक्षम है, जहां से रडार एक लंबी दूरी पर हवाई लक्ष्यों का पता लगाने के लिए जमीनी स्तर से अपेक्षित अधिकतम ऊंचाई को कवर कर सकता है।

सेंसर प्रणाली: एईडब्ल्यू एवं सी प्रणाली एक बहु सेंसर विमानस्थ निगरानी प्रणाली है। इसमें प्राथमिक रडार (पीआर) और माध्यमिक निगरानी रडार (एसएसआर/ आईएफएफ) जहाज पर सक्रिय सेंसर के रूप में शामिल हैं। इलेक्ट्रॉनिक सहायता उपाय (ईएसएम) और संचार समर्थन उपाय (सीएसएम) प्रणालियां लक्ष्यों से होने वाले विभिन्न उत्सर्जन के आधार पर पहचान/वर्गीकरण में सहायता करेंगी। आत्म सुरक्षा सुइट (एसपीएस) में रडार चेतावनी रिसीवर (आरडब्ल्यूआर) शामिल है, जिसे ईएसएम प्रणाली, मिसाइल पहुँचने की चेतावनी प्रणाली (एमएडब्ल्यूएस) और प्रतिरोध उपाय वितरण प्रणाली (सीएमडीएस) में शामिल किया जा सकता है। एईडब्ल्यू एवं सी में एक 'सी' बैंड डाटा लिंक और हवा से जमीन पर संचार के लिए के लिए एक 'कू' बैंड सैटकॉम लिंक होगा। सी बैंड डाटा लिंक और कू बैंड सैटकॉम लिंक दोहरी अतिरिक्त प्रणाली के रूप में कार्य करेंगे। एईडब्ल्यू एवं सी में हवा से हवा में ध्वनि और आंकड़ो (डेटा) के संचार के लिए पांच वी/यूएचएफ सेट युक्त एक मिशन प्रणाली नियंत्रक (एमसीएस) भी होगी। एईडब्ल्यू एवं सी प्रणाली का मिशन प्रणाली नियंत्रक (एमसीएस) सभी संवेदक आंकड़ों को एकीकृत करेगा और प्रणाली ट्रैक बनाएगा तथा अन्य प्रणाली नियंत्रण कार्यों को पूरा करेगा। मिशन प्रणाली नियंत्रक (एमएससी) की अवरोधन नियंत्रण खंड लड़ाई प्रबंधन कार्यों को पूरा करेगा और पुनर्प्राप्ति कार्यवाहियों के साथ-साथ अवरोधकों और वेक्टर हमलावर विमान का मार्गदर्शन भी करेगा। आंकड़ों की संभाल और प्रदर्शन प्रणाली (डाटा हैंडलिंग एंड डिस्प्ले सिस्टम्स) (डीएचडीएस) संचालक वर्क स्टेशनों (ओडब्ल्यूएस) पर एयर स्थिति चित्र (एएसपी) प्रदर्शित करेगी और परिचालकों को एईडब्ल्यू एवं सी प्रणाली से बातचीत करने के लिए सभी सुविधाएं प्रदान करेगी।

indian5.jpg
indian6.jpg


indian7.jpg

स्थिति: सीएबीएस और एलआरडीई ने 100-फुट के एक परीक्षण टावर में उपयुक्त और साथ ही हवाई लक्ष्यों के खिलाफ दोहरे खंड सक्रिय एंटीना सारणी इकाई (एएएयू) पर एक रडार प्रदर्शन परीक्षण किया है। सीमा और दिगांश कवरेज के मामले में रडार प्रदर्शन का डिजाइन प्रदर्शन मूल्यों के साथ अच्छी तरह से मिलान के लिए मूल्यांकन किया गया है। पूर्ण पैमाने के एएएयू को पूरी तरह से योग्य रेखा (लाइन) परिवर्तन योग्य इकाइयों (एलआरयूज) के साथ भी संधानित किया गया है और सीएबीएस में प्लानर नजदीक-क्षेत्र मापन सुविधा (पीएनएफएम) में संचारित और प्राप्त नमूने को मापा गया है। एसएसआर, ईएसएम, सीएसएम, एमसीएस, डीएचडीएस और डीएल जैसी अन्य उप प्रणालियों की उड़ान योग्यता को प्रमाणित किया गया है और प्रयोगशालाओं / छत पर रिग्स / हैक विमान में कठोर कार्यात्मक और प्रदर्शन परीक्षणों से गुजारा गया है। एक बार संशोधित ईएमबी-145 मंच के ब्राजील से भारत में आ जाने के बाद, विमान पर एईडब्ल्यू एवं सी प्रणाली एकीकरण शुरू होगा। एक संक्षिप्त और गहन विकास उड़ान परीक्षण के बाद, ईएमबी -145 एईडब्ल्यू एवं सी भारत के भारतीय वायु सेना के साथ प्रारंभिक परिचालन सेवा में प्रवेश की उम्मीद है। यह डीआरडीओ द्वारा राष्ट्रीय सुरक्षा तैयारियों के लिए महत्वपूर्ण योगदान का प्रतीक होगा।

.
.
.
.
Top