Links
ARMREB IMAGE

आयुध अनुसंधान बोर्ड (एआरएमआरईबी)

आर्ममेंट रिसर्च प्रोजेक्ट मैनेजमेंट एंड इंफॉर्मेशन सिस्टम (एआरपीएमआईएस) का बीटा वर्जन



डीआरडीओ, अनुसंधान बोर्ड और ईआर एवं आईपीआर निदेशालय की अनुदान सहायता योजनाओं के माध्यम से देश भर के शैक्षिक एवं अनुसंधान संस्थानों के बीच नवीन/बुनियादी अनुसंधान को बढ़ावा दे रहा है। इन योजनाओं के तहत बुनियादी विज्ञान एवं इंजीनियरिंग के क्षेत्र में अनुसंधान करने के लिए अनुसंधान संस्थाओं/विश्वविद्यालयों/ विभागों/प्रयोगशालाओं को बुनियादी सुविधाओं/अवसंरचना की स्थापना तथा सम्मेलन/ सेमिनार/संगोष्ठियों/ कार्यशालाओं आदि के संचालन के लिए अनुदान की पेशकश की जाती है।

आयुध शास्त्र (विभाग) के लिए उपयोगी नवीन/मूल अनुसंधान को बढ़ावा देने के लिए 1997 में "आयुध अनुसंधान बोर्ड (एआरएमआरईबी)" गठन किया गया। एक जटिल बहु-विभागीय क्षेत्र होने की वजह से आयुध में प्राक्षेपिकी, वायुगतिकी, सामग्री एवं धातु विज्ञान, मैकेनिकल एवं इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग, ऑप्टो-इलेक्ट्रॉनिक्स, कंप्यूटर तकनीक, विस्फोटक, पायरोटेक्निक, मॉडलिंग, अनुकरण एवं प्रणाली विश्लेषण शामिल है। आयुध विषयों के पूरे परिदृश्य को आवृत्त करने तथा इसे और अधिक प्रभावी बनाने के लिए पांच अनुसंधान पैनल बोर्ड के तहत काम कर रहे हैं।

आयुध समूह में पांच प्रयोगशालाएं अर्थात्; पुणे में स्थित एआरडीई एवं एचईएमआरएल और क्रमशः चंडीगढ़, चांदीपुर एवं दिल्ली में स्थित टीबीआरएल, पीएक्सई एवं सीएफईईएस काम कर रही हैं। इन प्रयोगशालाओं के पास अनुसंधान सुविधाओं की एक विस्तृत श्रृंखला उपलब्ध है।

.
.
.
.

Top