Links
DRDO

राजभाषा और ओ एवं एम

कार्य क्षेत्र

  • डीआरडीओ मुख्यालय का राजभाषा विभाग, डीआरडीओ मुख्यालय, डीआरडीओ प्रयोगशालाओं/प्रतिष्ठानों में अनुनय, प्रोत्साहन और सद्भावना के माध्यम से सरकारी कामकाज में हिन्दी के प्रगतिशील उपयोग को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध है।
  • राजभाषा को लागू करने के लिए, डीआरडीओ मुख्यालय में प्रत्येक तिमाही ओएलआईसी की बैठकें बुलाई जाती हैं। इन बैठकों में डीआरडीओ मुख्यालय और प्रयोगशालाओं/प्रतिष्ठानों में राजभाषा के प्रगति की नियमित समीक्षा की जाती है।
  • राजभाषा को लागू करने के लिए डीआरडीओ प्रयोगशालाओं/प्रतिष्ठानों को बजट आवंटन में सहयोग करना।
  • विभाग, तिमाही प्रगति रिपोर्ट और निरीक्षण के माध्यम से डीआरडीओ प्रयोगशालाओं/प्रतिष्ठानों में सरकारी भाषा (ओएल) को लागू करने की प्रगति की समीक्षा करता है।
  • राजभाषा विभाग, हिन्दी भाषा, हिन्दी टाइपिंग, हिन्दी आशुलिपी और हिन्दी-अंग्रेजी अनुवाद (राजभाषा स्टाफ) में प्रशिक्षित अधिकारियों एवं कर्मचारियों को डीआरडीओ मुख्यालय पर लाने में सहायता प्रदान करता है।
  • डीआरडीओ मुख्यालय से संबंधित मैनुअल, कोड और अन्य प्रक्रियात्मक साहित्य और फॉर्म, प्रशासनिक एवं अन्य रिपोर्ट और राजभाषा (ओएल) अधिनियम, 1963 के अनुभाग 3(3) में उल्लेखित दस्तावेजों का अनुवाद।
  • हिन्दी में काम करने को उत्साहित करने के लिए प्रोत्साहन प्रदान करना।
  • गुणवत्ता प्रबंधन प्रणाली की प्रक्रियाओं के प्रभाव में लगातार सुधार लाना और डीआरडीओ के कामकाज से संबंधित राजभाषा अधिनियम, 1963 के लागू होने वाले प्रावधानों को मानना।
  • राजभाषा कार्यान्वयन समिति, हिन्दी कार्यशाला, हिन्दी दिवस/हिन्दी पखवाड़ा की बैठकों को नियमित रूप से संचालित करना।
  • डीआरडीओ के पुस्तक पुरस्कार प्रणाली के अंतर्गत तकनीकी/वैज्ञानिक विषयों पर हिन्दी में लिखी किताबों को पुरस्कृत करना।
.
.
.
.

Top