Links
DRDO

योजना तथा समन्वयन

कार्य क्षेत्र

  • परियोजना तैयार करना, परियोजना प्रबंधन और अन्य सभी संबंधित पहलुओं के लिए व्यापक दिशा निर्देश विकसित करना और डीआरडीओ में उनका समान कार्यान्वयन सुनिश्चित करना।
  • सीएफए के अनुमोदन के लिए डीजी की शक्तियों से अलग परियोजना प्रस्तावों को संसाधित करना।
  • डीआरडीओ द्वारा की गई सभी परियोजनाओं के संबंध में अद्यतित सूचना / डेटाबेस / स्थिति बनाए रखना।
  • परियोजना समीक्षा बैठक में भागीदारी।
  • प्रमुख परियोजनाओं पर मासिक और त्रैमासिक परियोजना प्रगति रिपोर्ट संकलित करें।
  • डीआरडीओ वार्षिक रिपोर्ट तैयार एवं प्रकाशित करना तथा एमओडी वार्षिक रिपोर्ट के लिए समन्वय करना
  • एमओडी / सेवा आदि  संगठन के संबंध में  एलटीटीपीपी और पंचवर्षीय योजनाओं के लिए नोडल बिंदु के रूप में कार्य करना।
  • कॉर्पोरेट समीक्षा (सीआर) नीतियां स्थापित करना और प्रयोगशालाओं / प्रतिष्ठानों की सीआरएस आयोजित करना।
  • सचिव कार्यालय, रक्षा अनुसंधान एवं विकास द्वारा अपेक्षित तकनीकी निविष्टियों / मूल्यांकन से संबंधित मामलों पर कार्पोरेट मुख्यालय सहित एसीई, एनएसएंडएम एवं ईसीएस के बाहरी डीजी समूहों के बीच अंतरफलक प्रदान  करना, अन्य मुख्यालय निदेशालयों द्वारा अपेक्षित अनुसार बैठकों आदि का समन्वय करना।
  • रक्षा अनुसंधान एवं विकास विभाग (इनपुट और प्रतिक्रिया प्रदान करने सहित) की ओर से भारत सरकार के सभी मंत्रालयों और विभागों के साथ सम्पर्क करना।
  • भारत सरकार के अन्य मंत्रालयों / विभागों द्वारा जारी की गई मसौदा नीतियों, विधानों और दिशानिर्देश आदि के लिए संगठन / विभागीय प्रतिक्रिया विकसित और व्यक्त करना।
  • नागरिकों चार्टर का विकास एवं अद्यतन करना तथा नागरिकों की केंद्रित शिकायतों के नोडल बिंदु के रूप में कार्य करना।
  • रक्षा अनुसंधान एवं विकास विभाग के व्यवसाय (एओबी) नियमों के आवंटन से जुड़े मामले।
  • एडीए प्रकोष्ठ के साथ डीजी कैंप कार्यालयों समूह को स्थानीय प्रशासनिक सहायता प्रदान करने के लिए डीपीएवंसी भी जिम्मेदार होंगे।
 
.
.
.
.

Top